संदेह अलंकार – परिभाषा , उदाहरण

संदेह अलंकार Sandeh Alankar in Hindi

जब उपमेय और उपमान में समता देखकर यह निश्चय नहीं हो पाता है कि उपमान में उपमेय की दुविधा बनी रहती है, तब संदेह अलंकार होता है।

जैसे
की तुम तीनि देव मह कोऊ ।
मर-नारायन की तुम दोक ।।

नोट – भ्रातिमान अलंकार में उपमेय और उपमान के सादृश्य का आभास सत्यमान लिया जाता है, परन्तु संदेह में दुविधा (संदेह) बनी रहती है है या नहीं।

संदेह अलंकार के उदाहरण

निश्चय होय न वस्तु को, सो संदेह कहाय।
किधों, यही धौं, यह कि यह, इति विधि शब्द जताय।।

सारी बीच नारी है कि नारी बीच सारी है।
सारी ही की नारी है कि नारी ही की सारी है।।

तारे आसमान के है आये मेहमान बनि, केशों में निशा ने मुक्तावली सजायी है।
बिखर गयो है चूर-चूर ह्वै कै चंद किधौं, कैधों घर-घर दीपावली सुहायी है।

अन्य अलंकार पढ़े

अनुप्रास अलंकार यमक अलंकार पुनरुक्तिप्रकाश अलंकारवीप्सा अलंकारश्लेष अलंकार
उपमा अलंकारवक्रोक्ति अलंकारअनन्वय अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारस्मरण अलंकार भ्रातिमान अलंकारसंदेह अलंकारउल्लेख अलंकार
दृष्टांत अलंकारअतिशयोक्ति अलंकारअन्योक्ति अलंकारअसंगति अलंकारविषम अलंकार
विरोधाभास अलंकार
  भ्रांतिमान अलंकार Bhrantiman Alankar In Hindi

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!