असंगति अलंकार Asangati Alankar

असंगति अलंकार किसे कहते हैं Asangati Alankar

असंगति’ का अर्थ संगति का न होना हैजब कारण और कार्य में संगति न हो, कारण कहीं पर और कार्यकहीं अन्यत्र हो तब असंगति होती है। तब असंगति अलंकार होता है।

उदहारण

दृग उरझत टूटत कुटुम, जुरत चतुर चित प्रीति। परत गाँठ दुरजन हिये, दई नई यह रीति।।

तुमने पैरों में लगाई मेंहदी
मेरी आँखों में समाई मेंहदी।

अन्य अलंकार पढ़े

अनुप्रास अलंकार यमक अलंकार पुनरुक्तिप्रकाश अलंकारवीप्सा अलंकारश्लेष अलंकार
उपमा अलंकारवक्रोक्ति अलंकारअनन्वय अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारस्मरण अलंकार भ्रातिमान अलंकारसंदेह अलंकारउल्लेख अलंकार
दृष्टांत अलंकारअतिशयोक्ति अलंकारअन्योक्ति अलंकारअसंगति अलंकारविषम अलंकार
विरोधाभास अलंकार

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Alert: Content is protected !!