रूपक अलंकार परिभाषा उदाहरण Roopak Alankar in Hindi

रूपक अलंकार की परिभाषा Roopak Alankar ki paribhasha

Roopak Alankar in Hindi जहाँ एक वस्तु (उपमेय) को उपमेय पर उपमान का अभेद आरोप किया जाए. वहाँ रूपक अलंकार होता है।

उदाहरण
ऊषो, मेरा हदय तल था एक उद्यान न्यारा ।
शोभा देती अमित उसमें कल्पना-क्यारियाँ थीं।

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो।

प्रभात यौवन है वक्ष सर में कमल भी विकसित हुआ है कैसा।

शशि-मुख पर घूँघट डाले अंचल में दीप छिपाये।

सिर झुका तूने नीयति की मान ली यह बात। स्वयं ही मुरझा गया तेरा हृदय-जलजात।

सिंधु-बिहंग तरंग-पंख को फड़काकर प्रतिक्षण में।

चरण कमल बंदों हरिराई

अन्य अलंकार पढ़े

अनुप्रास अलंकार यमक अलंकार पुनरुक्तिप्रकाश अलंकारवीप्सा अलंकारश्लेष अलंकार
उपमा अलंकारवक्रोक्ति अलंकारअनन्वय अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारस्मरण अलंकार भ्रातिमान अलंकारसंदेह अलंकारउल्लेख अलंकार
दृष्टांत अलंकारअतिशयोक्ति अलंकारअन्योक्ति अलंकारअसंगति अलंकारविषम अलंकार
विरोधाभास अलंकार

Share this
  द्वंद समास की परिभाषा और उदाहरण Dvandva Samas

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!