चाणक्य का जीवन परिचय | Acharya Chanakya Biography in Hindi

Chankya Biography in Hindi
चाणक्य का जीवन परिचय | Acharya Chanakya Biography in Hindi

चाणक्य (about chanakya in hindi) का भारतीय इतिहास और राजनीति में विशेष स्थान है। चाणक्य ने चंद्रगुप्त को राजा बनने में मदद की थी । उनका वास्तविक नाम विष्णुगुप्त था। चणक्य के पुत्र होने के कारण उन्हें चाणक्य कहा जाता है; और कुटिल नीतियों के उपदेशक होने के कारण उन्हें कौटिल्य भी कहा जाता है ।

शासन के पहलू विस्तृत चर्चा उनकी पुस्तक “अर्थशास्त्र” में है।शायद दुनिया में न तो प्राचीन और न ही आधुनिक राजनीतिक विचारकों ने ऐसा किया है। इसलिए चाणक्य को दुनिया के सबसे महान राजनीतिक विचारकों में से एक माना जाता है

चाणक्य कौन थे

चाणक्य या कौटिल्य या विष्णुगुप्त एक प्राचीन भारतीय अर्थशास्त्री, दार्शनिक और चंद्रगुप्त मौर्य के परामर्शदाता थे। प्राचीन भारत  में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में अग्रणी व्यक्ति थी, और इनके सिद्धांतों ने अर्थव्यवस्था के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

चाणक्य को राजनीति विज्ञान में मैकियावेली कहा जाता है। गुप्त साम्राज्य के अंत में, कौटिल्य का लेखन गायब हो गया और 1915 में फिर से खोजा गया। कौटिल्य ने चंद्रगुप्त मौर्य और उनके बेटे के सलाहकार के रूप में काम किया था ।

कौटिल्य का भारतीय इतिहास और राजनीति में विशेष स्थान है। शासन के पहलू विस्तृत चर्चा उनकी पुस्तक “अर्थशास्त्र” में है।शायद दुनिया में न तो प्राचीन और न ही आधुनिक राजनीतिक विचारकों ने ऐसा किया है। इसलिए चाणक्य को दुनिया के सबसे महान राजनीतिक विचारकों में से एक माना जाता है।

चाणक्य के बारे में बहुत कम ऐतिहासिक जानकारी उपलब्ध है, अधिकांश जानकारी  इतिहास की बजाय कल्पना पर आधारित है।

चाणक्य का नाम चंद्रगुप्त मौर्य साम्राज्य की स्थापना से जुड़ा है। इनकी मदद, सलाह और राजनीतिक कूटनीति से चंद्रगुप्त ने अपने साम्राज्य का सफलतापूर्वक विस्तार किया।

अन्य पढ़े चाणक्य नीति की 10 बातें

चाणक्य के बारे में जानकारी के स्रोत

चाणक्य के बारे में बहुत कम ऐतिहासिक जानकारी उपलब्ध है।चाणक्य के बारे में जानकारी मुख्यता चार स्रोत से प्राप्त होती है

बौद्ध साहित्य

जैन साहित्य

विशाखदत्त की मुद्राराक्षस

कश्मीरी साहित्य

सभी चार संस्करणों में चाणक्य राजा नंद द्वारा अपमानित किया गया था और उन्हेंने राजा नंद नष्ट करने की कसम खायी थी ।

बौद्ध साहित्य

बौद्ध साहित्य में चाणक्य का उल्लेख स्रोत महावंश है जो आमतौर पर 5 वीं और 6 वीं शताब्दी के बीच का है।

अन्य पढ़े महात्मा बुद्ध का जीवन परिचय 

जैन साहित्य

जैन साहित्य के अनुसार चाणक्य का जन्म कानाक और चनेश्वरी नामक दो जैनों (श्रावकों) से हुआ था। उनका जन्मस्थान चाणक गांव था। लेकिन हेमचंद्र के अनुसार वे दक्षिण भारत के मूल निवासी थे ।

अन्य पढ़े महावीर स्वामी का जीवन परिचय

जैन साहित्य के अनुसार चंद्रगुप्त मौर्य के सलाहकार कौटिल्य ने चंद्रगुप्त मौर्य को उनकी जानकारी के बिना हर दिन थोड़ी मात्रा में जहर पिलाया करते थे  ताकि दुश्मन को मारने के जहरीले प्रयास के खिलाफ एक शारीरिक प्रतिरक्षा बनाया जा सके।  एक दिन जब चंद्रगुप्त मौर्य ने गर्भवती दुर्धरा के साथ अपना जहरीला भोजन साझा किया तो दुर्धरा की मृत्यु हो गई।

बिंदुसार का जन्म तब हुआ जब कौटिल्य ने बेटे को बचाने के लिए दुर्धरा का पेट काट दिया  जब बिंदुसार सम्राट के रूप में सिंहासन पर बैठा, तो कौटिल्य ने उनके राजनीतिक सलाहकार के रूप में काम किया।

हेमचंद्र के परिशिष्ट के अनुसार बिन्दुसार के एक मंत्री सुबंधु कौटिल्य उसे पसंद नहीं करते थे। उन्होंने बिंदुसार को बताया कि उनकी मां दुर्धरा की मृत्यु के लिए चाणक्य जिम्मेदार थे। जब इस घटना की जानकारी पर बिन्दुसार बहुत क्रोधित हुए तो वृद्ध चाणक्य ने जैन अनुष्ठान करके या स्वेच्छा से उपवास करके शरीर छोड़ने का फैसला किया।

लेकिन इस बार बिन्दुसार को पता चलता है कि बिंदुसार अपनी माँ की मृत्यु के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं था अपनी गलती का एहसास करता है और सुबंधु को कौटिल्य के पास भेजता है ताकि वे मरने का इरादा छोड़ दे। लेकिन अवसरवादी सुबंधु ने इस समय कौटिल्य को जलाकर मार डाला।

  अलेक्जेंडर ग्राहम बेल का जीवन परिचय | Alexander Graham Bell Biography In Hindi

विशाखदत्त की मुद्राराक्षस

मुद्राराक्षस के अनुसार राजा नंद ने एक बार चाणक्य को राज्य की सभा से निष्कासन कर दिया था। इस कारण कौटिल्य ने नंद के पूर्ण विनाश तक अपनी बाल नहीं बांधने की कसम खाई।चाणक्य ने नंद को सिंहासन से हटाने की योजना बनाई और उनके स्थान पर राजा नंद पुत्र के एक छोटी रानी के पुत्र चंद्रगुप्त की नियुक्त की।

चाणक्य ने चंद्रगुप्त के एक अन्य शक्तिशाली राजा पर्वतेश्वर (या पर्वत) के साथ गठबंधन किया और दोनों शासक नंद के क्षेत्र को विभाजित करने के लिए सहमत हुए।उनकी सहयोगी सेनाओं में बहलिका, किराता, परसिका, कम्बोज, शक और यवन शामिल थे। सेना ने पाटलिपुत्र पर आक्रमण किया और नंदों को पराजित किया। कुछ विद्वानों ने पर्वत की पहचान राजा पोरस से की है।

जैन कहावतों के अनुसार, चंद्रगुप्त मौर्य के सलाहकार चाणक्य ने चंद्रगुप्त मौर्य को उनकी जानकारी के बिना हर दिन थोड़ी मात्रा में जहर पिलाया, ताकि दुश्मन को मारने के जहरीले प्रयास के खिलाफ एक शारीरिक मारक बनाया जा सके।एक दिन जब चंद्रगुप्त मौर्य ने गर्भवती दुर्धरा के साथ अपना जहरीला भोजन साझा किया तो दुर्धरा की मृत्यु हो गई। बिंदुसार का जन्म तब हुआ जब कौटिल्य ने हाल ही में मृत दुर्धरा का पेट काट दिया और अपने बेटे को बचाने के लिए उसे अंदर ले आए।

बाद में जब बिंदुसार सम्राट के रूप में सिंहासन पर बैठा, तो चाणक्य ने उनके राजनीतिक सलाहकार के रूप में काम किया। हेमचंद्र के परिशिष्ट के अनुसार बिन्दुसार के एक मंत्री सुबंधु चाणक्य उसे पसंद नहीं करते थे। उन्होंने बिंदुसार को बताया कि उनकी मां दुर्धरा की मृत्यु के लिए चाणक्य जिम्मेदार थे।

जब इस घटना की जानकारी पर बिन्दुसार बहुत क्रोधित हुए, तो वृद्ध चाणक्य ने जैन अनुष्ठान करके या स्वेच्छा से उपवास करके शरीर छोड़ने का फैसला किया। लेकिन इस बार चाणक्य को पता चलता है कि बिंदुसार अपनी माँ की मृत्यु के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं था, अपनी गलती का एहसास करता है और सुबंधु को चाणक्य के पास भेजता है ताकि मरने का इरादा छोड़ दे। लेकिन अवसरवादी सुबंधु ने इस समय चाणक्य को जलाकर मार डाला।

चाणक्य का जीवन परिचय मुख्य बिंदु एक नज़र में (about chanakya in hindi)

नाम Name चाणक्य

पुरा नाम Full Name आचार्य श्री विष्णुगुप्त चाणक्य

उपनाम  भारत का मैकियावेली Machiavelli of India

जन्म तारीख Date of Birth (अनुमानतः ईसापूर्व 376 )

जन्म स्थान Place of Birth तक्षशिला,पाकिस्तान

मृत्यु Death 283 B.C पटना

नागरिकता Nationality मौर्य राजवंश

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name ऋषि कानाक (जैन ग्रंथों के अनुसार)

माता का नाम Mother’s Name चनेश्वरी (जैन ग्रंथों के अनुसार)

अन्य जानकारी Other Information

गृहनगर Hometown मौर्य साम्राज्य 

शिक्षा Education तक्षशिला विश्वविद्यालय

धर्म Religion हिन्दू

प्रसिद्धि अर्थशास्त्र ग्रन्थ

उपाधि title भारत का मैकियावेली

अन्य पढ़े चाणक्य नीति के 11 अनमोल वचन

चाणक्य का जन्म

चाणक्य का पूरा नाम विष्णु गुप्त चाणक्य है। उन्हें कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है। आपके जन्म के बारे में मतभेद हैं। कुछ के अनुसार, कौटिल्य का जन्म पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में हुआ था। कुछ के अनुसार, इनका जन्म चाणक नामक गांव में ब्राह्मण परिवार में हुआ था। कुछ के अनुसार तक्षशिला के ब्राह्मण के पुत्र माने जाते है । बचपन में जब उनके पिता की मृत्यु हो गई, तो उनकी मां ने इनका पालन-पोषण किया।

चाणक्य की शिक्षा

चाणक्य की शिक्षा प्राचीन भारत के सबसे प्रसिद्ध  विश्वविद्यालय में हुई थी और बाद में उन्होंने इसके प्रमुख के रूप में कार्य किया।

तक्षशिला में रहकर उन्होंने दर्शनशास्त्र का अध्ययन किया और ज्ञान प्राप्त किया। वे वेदों के महान विद्वान और विष्णु के उपासक थे ।

अन्य पढ़े चाणक्य नीति मित्रता के अनमोलवचन

प्रारंभिक जीवन

चाणक्य के समय मगध बहुत शक्तिशाली राज्य माना जाता था। पाटलिपुत्र में नंद वंश का राज्य था और उसका राजा धनानंद संकीर्ण आंखों वाला एक अभिमानी और आलसी राजा था। युवा होने पर कौटिल्य जीविकोपार्जन के लिये मगध साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र पहुंचे ।

वहाँ मगध के नंदवंशीय शासके घनानंद से उनको भेट हुई । सम्राट ने कौटिल्य को पाटलिपुत्र की दानशाला का प्रबंधक नियुक्त किया किन्तु और उग्र होने के कारण वहाँ से पदच्युत कर दिया गया । उन्होंने इसे अपना अपनान समाझा और तब ननंद तथा नंद वंश के विनाश करने की प्रतिज्ञा ली । वह सदैव इस खोज में रहते के प्रतिज्ञ कैसे पूरी करें । उसी समय उनकी भेंट चन्द्रगुप्त से हुई ।

  हेरोडोटस का जीवन परिचय | Herodotus Biography In Hindi

चाणक्य और चन्द्रगुप्त

चंद्रगुप्त बहुत महत्वाकांक्षी थे । चाणक्य और चंद्रगुप्त नद साम्राज्य पर अपने आधिपत्य के इस संघ को भारतीय इतिहास को एक नई दिशा में मोड़ना चाहते थे। चंद्रगुप्त में बल था और कौटिल्य के पास ज्ञान था , और शक्ति और ज्ञान का यह संयोजन भारतीय इतिहास में समय का परिवर्तन साबित हुआ है।

चंद्रगुप्त और कौटिल्य ने मिलकर पाटलिपुत्र पर आक्रमण किया। घानानंद,  की मजबूत सैन्य शक्ति के कारण वे हार गए थे। साम्राज्य की शक्ति हमेशा केंद्र में थी, सीमावर्ती क्षेत्रों में कमजोर थी। चंद्रगुप्त और चाणक्य ने अपनी रणनीति बदली और पहले मगध के सीमावर्ती क्षेत्रों को जीतने और फिर मगध पर हमला करने का फैसला किया।

इस नई योजना के अनुसार, पंजाब पर हमला किया और विजय प्राप्त की। इसके बाद, चंद्रगुप्त एक बड़ी सेना के साथ बटालिप्तरा पहुंचे। इस युद्ध में घाननंद, मारा गया था। चन्द्रगुप्त ने कौटिल्य की सहायता से मगध को प्राप्त किया। आधिकारिक तौर पर 321 ईसा पूर्व में चंद्रगुप्त का ताज पहनाया गया था। उन्हें मगध का सम्राट घोषित किया गया था। कौटिल्य की बुद्धिमत्ता और कूटनीति के कारण, चंद्रगुप्त ने उन्हें अपना प्रधान मंत्री और मुख्य सलाहकार नियुक्त किया।

अन्य पढ़े चन्द्रगुप्त मौर्य का जीवन परिचय

चाणक्य के राजनीतिक विचार

chaanaky ke raajatantr ke samabhand mein vichaar

चाणक्य का मानना ​​​​है कि राजशाही सबसे उपयोगी प्रणाली है। उनकी दृष्टि में राजा को धर्मपरायण, ईमानदार, कृतज्ञ, बलवान, आदरणीय, उत्साही, विनम्र, विवेकपूर्ण, निडर, न्यायप्रिय, सौम्य और कार्य में अच्छा होना चाहिए। उसे काम, क्रोध, मोह, आत्म-ईर्ष्या आदि बुरे गुणों से दूर रहना चाहिए। इस प्रकार, राजा में न केवल राजा के गुण होने चाहिए, बल्कि एक सज्जन के सभी गुण भी होने चाहिए।

 नागरिकों को दुर्घटनाओं और प्राकृतिक आपदाओं से बचाने की जिम्मेदारी राज्य की है। राज्य को विकलांगों, कमजोरों, बुजुर्गों, बीमारों और गरीबों का ध्यान रखना चाहिए। राज्य को शिक्षा की व्यवस्था करनी चाहिए। साहूकारों, व्यापारियों, जादूगरों, कारीगरों, चमचों, सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा लोगों को शोषण और उत्पीड़न से बचाने की जिम्मेदारी राज्य की है। व्यापारी अनुचित कीमतों पर खरीद-बिक्री नहीं कर सकते और देश को इसके लिए नियम बनाने चाहिए।
राज्य के इन कार्यों से यह देखा जा सकता है कि कौटिल्य ने एक आधुनिक लोक कल्याणकारी राज्य की कल्पना की थी। वह लोगों के हितों को देश का लक्ष्य मानते हैं। वर्षा की कमी के कारण, अकाल के नियमित रूप से सैकड़ों साधुओं को भोजन कराते थे।

चाणक्य द्वारा लिखित पुस्तकें

ऐसा माना जाता है कि चाणक्य ने दो किताबें, अर्थशास्त्र और चाणक्य नीति लिखीं।

कौटिल्य एक चतुर राजनीतिज्ञ हैं। उन्होंने नीति पर एक किताब भी लिखी। इसमें उनके विचार शामिल हैं और यह दर्शाता है कि वह मौर्या साम्राज्य के निर्माता के रूप में सफल रहे। हालांकि वह राज्य  शासन के समर्थक हैं, लेकिन वह निरंकुश शासन का विरोध करते हैं।

कौटिल्य की अर्थव्यवस्था अर्थव्यवस्था की भूमिका, राज्य कल्याण, विदेश नीति, सैन्य रणनीति और शासक की भूमिका का वर्णन करती है।

अर्थशास्त्र में सबसे अधिक छंद कौटिल्य के नाम पर है, जिनमें से एक विष्णुगुप्त के नाम पर है। थॉमस ट्रॉटन के अनुसार, अर्थव्यवस्था के लेखक का असली नाम विष्णुगुप्त था और जनजाति का नाम कौटिल्य था ।

चाणक्य की छः सूत्रीय विदेश नीति

संधि – शांति बनाए रखने के लिए एक समकक्ष या अधिक शक्तिशाली राजा के साथ संधि की जा सकती है। आत्मरक्षा की दृष्टि से शत्रु से सन्धि भी हो सकती है। लेकिन आपका लक्ष्य समय के साथ दुश्मन को कमजोर करना है।
विग्रह या शत्रु के विरुद्ध युद्ध करना। शत्रु से लड़ें ताकि आपके राज्य में शांति बनी रहे।
यान युद्ध की घोषणा के बिना हमले की तैयारी,
तटस्थता की नीति
संश्रय का अर्थ है आत्मरक्षा के उद्देश्य से राजा द्वारा दूसरे राजा के अधीन जाना या दूसरे राज्य के राजा से मदद मांगें।
 द्वैतवाद का अर्थ है एक राजा के साथ शांति संधि करना और दूसरे से युद्ध करना।

चाणक्य की मृत्यु कैसे हुई

चाणक्य की मृत्यु (chanakya death) लगभग 283 ईसापूर्व हुई थी। मृत्यु के पुख्ता सबूत किसी के पास नहीं हैं, लेकिन कई इतिहासकारों ने कई मत सामने रखे हैं। माना जाता है कि इनकी की मृत्यु लगभग 300 ईसा पूर्व हुई थी।

  बंकिम चंद्र चटर्जी का जीवन परिचय | Biography of Bankim Chand Chatterjee In Hindi

इसके विपरीत, कुछ लोगों का मानना ​​है कि उन्होंने अन्य जल आदि का त्याग करके अपने शरीर को त्याग दिया। कई इतिहासकारों का यह भी कहना है कि महापंडित चाणक्य जी की मृत्यु किसी षडयंत्र के तहत हत्या से हुई थी। उनको आज भी आधुनिक राजनेताओं, विचारकों और विचारकों मे अग्रणी  माना जाता है।

चाणक्य नीति के अनमोल वचन

कोई भी काम शुरू करने से पहले हमेशा अपने आप से तीन सवाल पूछें कि मैं ऐसा क्यों कर रहा हूं,इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल हो पाऊंगा। जब आप गहराई से सोचें और इन सवालों के संतोषजनक जवाब पाएं तभी आगे बढ़ें।

जो अपने परिवार के सदस्यों से अत्यधिक जुड़ा हुआ है, वह भय और उदासी का अनुभव करता है,क्योंकि सभी दर्द की जड़ आसक्ति है। इसलिए सुखी रहने के लिए आसक्ति को त्याग देना चाहिए।

मनुष्य जन्म से नहीं कर्मों से महान होता है।

जैसे ही डर आ जाए उस पर हमला करो और उसे नष्ट कर दो

भगवान मूर्तियों में मौजूद नहीं है। आपकी भावनाएं ही आपका भगवान हैं। आत्मा तुम्हारा मंदिर है।

धन, मित्र, पत्नी और राज्य को पुनः प्राप्त किया जा सकता है, लेकिन यह शरीर खो जाने पर फिर कभी प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

कभी भी ऐसे लोगों से दोस्ती न करें जो आपसे ऊपर या नीचे की स्थिति में हों। ऐसी दोस्ती आपको कभी खुशी नहीं देगी

जब तक शत्रु की दुर्बलता का पता न चले तब तक उसे मित्रतापूर्ण शर्तों पर रखना चाहिए।

ये नीच लोग जो दूसरों के गुप्त दोषों की बात करते हैं,वे खुद को  घूमने वाले सांपों की तरह नष्ट कर देते हैं।

जो लोग आध्यात्मिक शांति के अमृत से संतुष्ट हैं उन्हें प्राप्त सुख और शांति लालची लोगों द्वारा प्राप्त नहीं की जाती है जो अथक रूप से इधर-उधर घूमते रहते हैं।

जब तक आपका शरीर स्वस्थ और नियंत्रण में है और मृत्यु दूर है, तब तक अपनी आत्मा को बचाने की कोशिश करो जब मृत्यु निकट है तो आप क्या कर सकते हैं

मुनि को सारस की भाँति अपनी इन्द्रियों को वश में रखना चाहिए और अपने स्थान समय और योग्यता के सम्यक ज्ञान के साथ अपने उद्देश्य की पूर्ति करनी चाहिए

उस देश में मत रहो जहाँ तुम्हारा सम्मान नहीं है, जीविकोपार्जन नहीं कर सकता है कोई मित्र नहीं है, या ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकता।

F .A .Q

चाणक्य कौन थे ?

चाणक्य या कौटिल्य या विष्णुगुप्त एक प्राचीन भारतीय अर्थशास्त्री, दार्शनिक और चंद्रगुप्त मौर्य के परामर्शदाता थे। प्राचीन भारत में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में अग्रणी व्यक्ति थी, और इनके सिद्धांतों ने अर्थव्यवस्था के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

चाणक्य का असली नाम क्या था ?
चाणक्य का इनका विष्णुगुप्त था।

चाणक्य का जन्म कब हुआ था ?

चाणक्य का जन्म अनुमानतः 376 ईसापूर्व हुआ था।

चाणक्य का जन्म कहाँ हुआ था ?
चाणक्य जन्म के बारे में मतभेद हैं। कुछ के अनुसार, इनका का जन्म पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में हुआ था। कुछ के अनुसार,  इनका जन्म चाणक नामक गांव में ब्राह्मण परिवार में हुआ था।कुछ के अनुसार तक्षशिला के ब्राह्मण के पुत्र माने जाते है । बचपन में जब उनके पिता की मृत्यु हो गई, तो उनकी मां ने पालन-पोषण किया

चाणक्य की मृत्यु कब और कैसे हुई थी ?
कुछ इतिहास कारो द्वारा ऐसा माना जाता है की चाणक्य के एक शत्रु ने 283ई. में उनकी कुटिया में आग लगाकर उनको जिन्दा जलाकर मार दिया था

चाणक्य कौन सी जाति के थे ?
चाणक्य  ब्राह्मण जाति से ताल्लुक रखते थे।

चाणक्य के गुरु कौन था ?
चाणक्य के गुरु का नाम गुरु चणक था।

चाणक्य के पिता कौन थे ?
जैन ग्रंथों के अनुसार चाणक्य के पिता का नाम ऋषि कनक था

चाणक्य के माता पिता कौन थे ?
जैन ग्रंथों के अनुसार चाणक्य के पिता का नाम ऋषि कनक एवं माँ का नाम चनेश्वरी था।

चाणक्य का गोत्र क्या था ?
चाणक्य का गोत्र कोटिल था, इसलिए उनका नाम कौटिल्य पड़ा।

चाणक्य महत्वपूर्ण तथ्य

चाणक्य और चंद्रगुप्त की कहानी को चाणक्य चंद्रगुप्त नामक 1977 की तेलुगु फिल्म बनाई गयी थी ।

1991 टीवी श्रृंखला में चाणक्य नाम से दूरदर्सन पर प्रसारित की गयी थी। मितेश सफारी और चंद्र प्रकाश द्विवेदी ने चाणक्य की भूमिकाएँ निभाईं।

मनोज जोशी ने 2015 में बनी चक्रवर्ती अशोक सम्राट नामक एक टेलीविजन श्रृंखला में चाणक्य की भूमिका निभाई।

मनोज कोलाटकर ने स्टार प्लस की सीरीज चंद्र नंदिनी में चाणक्य की भूमिका निभाई थी।

अन्य पढ़े
Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *