Puran Kitne Hai | 18 पुराण का संक्षिप्त विवरण

Puran kitne hai

Puran Kitne Hai इस पोस्ट में हम जानेंगे पुराण क्या है पुराण कितने हैं ( Puran Kitne Hai ) और पुराणों का संक्षिप्त विवरण पढ़ेंगे।

पुराण क्या है ? Puran Kya Hai

पुराण का शाब्दिक अर्थ है ‘प्राचीन’ या प्राचीन पुराणों की रचना मुख्य रूप से संस्कृत में हुई थी, लेकिन कुछ पुराणों की रचना क्षेत्रीय भाषाओं में भी की गई थी। पुराण हिंदू और जैन धर्मों के साहित्य में पाए जाते हैं।

पुराण भारतीय धर्मशास्त्र की एक महत्वपूर्ण श्रृंखला है जो वेदों के बाद आती है। ये शास्त्र हिंदू धर्म की महत्वपूर्ण श्रृंखलाओं में से एक हैं और इसमें भगवान के अवतारों, देवी-देवताओं और उनके लीलाओं के बारे में विस्तृत वर्णन होता है।

पुराणों में वेदों की जानकारी के साथ-साथ इतिहास, धर्म, तत्त्व, विज्ञान, फलित विज्ञान और दर्शन के बारे में भी विस्तृत जानकारी प्राप्त होती है।

विभिन्न पुराणों की सामग्री में बहुत असमानता है। इतना ही नहीं एक ही पुराण की अनेक पांडुलिपियां प्राप्त हुई हैं और एक दूसरे से भिन्न हैं। हिंदू पुराणों के लेखक अज्ञात हैं और सदियों से विभिन्न लेखकों द्वारा रचित प्रतीत होते हैं। इसके विपरीत जैन पुराण हैं। जैन पुराणों के निर्माण का समय और रचनाकारों के नाम प्रदान किए जा सकते हैं।

पुराणों में वैदिक काल की रचना, परम्परागत वृत्तान्तों और कहानियों आदि से संबंधित विचारों के संग्रह में सामान्य या साधारण शिक्षाएँ भी पाई जाती हैं। प्राचीन राजाओं और ऋषियों आदि के वंशावली भी पायी जाती है

प्राचीन संस्कृत साहित्य में पुराण-साहित्य बहुत विशाल और गौरवशाली है। वेदों के बाद पुराणों को ही मान्यता मिलती है, एक प्रकार से पुराणों को सभ्यता, संस्कृति, राजनीति, भूगोल, भारतीय इतिहास आदि का विश्वकोश कहा जा सकता है।

पुराणों विष्णु, वायु, मत्स्य और भागवत में ऐतिहासिक विवरण- राजाओं की वंशावली आदि के रूप में बहुत कुछ मिलता है। ये वंशावली, जबकि बहुत संक्षिप्त और कभी-कभी परस्पर विरोधी होती हैं, बहुत मददगार होती हैं। इतिहासकारों ने पुराणों पर विशेष ध्यान दिया है और इन वंशावली की जांच में लगे हुए हैं।

पुराणों का रचनाकाल

पुराणों की रचना की अवधि विवादास्पद है। यद्यपि इनकी रचना ईसा पूर्व छठी शताब्दी में शुरू हुई थी, तथापि गुप्त काल में इन्हें संशोधित कर अपने वर्तमान स्वरूप से जोड़ा गया।

पुराण कितने है Puran Kitne Hai

भारतीय परम्पराओं के अनुसार पुराणों की संख्या 18 है। पुराणों को दो भागों में बाँटा जा सकता है –

महापुराण

  ताजमहल का इतिहास Tajmahal History in Hindi

उपपुराण

महापुराणों की संख्या 18 है और उपपुराण भी 18 हैं.

18 महापुराण के नाम | 18 Puran ke Naam

सात्विक पुराणराजस पुराणतमस पुराण
विष्णु पुराणब्रह्म पुराणशिव पुराण
भागवत पुराणब्रह्माण्ड पुराणलिङ्ग पुराण
नारद पुराणब्रह्म वैवर्त पुराणस्कन्द पुराण
गरुड़ पुराणमार्कण्डेय पुराणअग्नि पुराण
पद्म पुराणभविष्य पुराणमत्स्य पुराण
वराह पुराणवामन पुराणकूर्म पुराण

सात्विक पुराण – सात्विक पुराण विष्णु से संबंधित हैं।

राजस पुराण – राजस पुराण का सम्बन्ध ब्रह्मा का है।

तमस पुराण – तमस पुराण शिव से संबंधित है।

Read Also jain dharm in hindi

इन 18 पुराणों के अतिरिक्त 18 उपपुराण लिखे गए थे

18 उपपुराण

आचार्य बलदेव उपाध्याय ने गरुड़पुराण के आधार पर उपपुराणों की जो सूची दी है वह है –
सनत्कुमार पुराण
नरसिंह पुराण
कपिल पुराण
कलिका पुराण
साम्ब पुराण
पराशर पुराण
महेश्वर पुराण
सौर पुराण
नारद पुराण
शिव पुराण
दुर्वासा पुराण
मानव पुराण
अनुशासन पुराण
वरुण पुराण
वसिष्ठ पुराण
देवी-भागवत पुराण
नंदी पुराण
आदित्य पुराण

महत्त्वपूर्ण पुराणों का संक्षिप्त विवरण

विष्णु पुराण ( Vishnu Puran )

18 महापुराणों में श्री विष्णुपुराण का स्थान बहुत ऊँचा है
इसमें विष्णु को अवतार के रूप में पूजा जाता था। यह प्रामाणिकता और पुरातनता की दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण है। यह वैष्णव दर्शन का पुराण अनुवाद है। इसमें छह खंड, 126 अध्याय और 23 हजार श्लोक हैं। इसमें भूगोल, ज्योतिष, कर्मकांड, वंश और श्रीकृष्ण के चरित्र आदि का वर्णन किया गया है। कई अन्य मामलों का एक अनूठा और विशद विवरण प्राप्त किया।
श्री विष्णु पुराण में भी इस ब्रह्मांड की उत्पत्ति, वर्ण व्यवस्था, आश्रम व्यवस्था, भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की सर्वव्यापकता, ध्रुव प्रह्लाद, वेणु आदि का वर्णन मिलता है। राजाओं और उनके जीवन का इतिहास, विकास परंपरा, कृषि, गोरक्षा, आदि। संचालन, भारत पहले नौ खंड, सात महासागरों का विवरण, आधा दुनिया का वर्णन, चौदह विद्या, वैवस्वत मनु, इक्ष्वाकु, कश्यप, पुरुषवंश, कुरुवंश, यदुवंश, कल्पत की महान बाढ़ का वर्णन, आदि। विस्तार से चर्चा की गई।
भक्ति और ज्ञान का शांतिपूर्ण प्रवाह उसके भीतर हर जगह बह रहा है।
यद्यपि यह पुराण विष्णु की महिमा का वर्डन है, लेकिन इसमें कहीं भी भगवान शंकर के प्रति कहीं भी अनुदार भाव नहीं है

श्रीमद् भागवत् पुराण ( Bhagwad Puran)

भागवत् पुराण वैष्णवों का सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय पुराण है. वे इसे पंचम वेद मानते हैं. इसमें विष्णु के अवतारों का विस्तृत वर्णन है. दसवें अध्याय में कृष्ण की रास लीलाओं का विस्तृत वर्णन होते हुए भी राधा का नाम कहीं नहीं आया. इसमें सांख्यदर्शन के प्रवर्तक कपिल और महात्मा बुद्ध को भी विष्णु अवतार माना गया है. इसमें 12 स्कन्ध और 18 हजार श्लोक हैं.

नारद पुराण (Narada Puran)

Narad puran
इसे बृहद् नारदीय भी कहते हैं. इसके दो भागों में क्रमशः 125 और 82 अध्याय और 25 हजार श्लोक हैं. इसके पूर्व भाग में वर्णाश्रम के आचार, श्राद्ध, प्रायश्चित, व्याकरण, निरुक्त, छंद, ज्योतिष आदि का वर्णन है. इस वैष्णव पुराण का स्थान विश्वकोषात्मक पुराणों में आता है. इसमें वैष्णवों के व्रतों और उत्सवों का वर्णन है. विष्णु भक्ति को ही मोक्ष का एकमात्र उपाय बतलाया गया है.

गरुड़ पुराण (Garud Puran)

गरुड़ पुराण

इस पुराण में विष्णु ने गरुड़ को जगत् की रचना बताया था। इसके दो खंड, 287 अध्याय और 18 हजार श्लोक हैं। पूर्वाखंड में विष्णु के अवतारों की महिमा है।
इस पुराण के उत्तरी भाग को प्रेतकल्प कहा गया है, जिसमें 45 अध्याय हैं। इसमें गर्भ, नरक, यमनगर का मार्ग, दैत्यों का वास, लक्षणों से मुक्त और भूत-प्रेत, राक्षसों का रूप, मनुष्यों की आयु, यमलोक का विस्तार, सपिंडीकरण की विधि, वृषोत्सर्ग विधि का रोचक और विस्तृत वर्णन है। आदि। श्राद्ध के समय इस पुराण का पाठ किया जाता है।

पद्म पुराण (Padam Puran)

इसमें राधा को कृष्ण की प्रेयसी बताया गया है। हालांकि मुख्य रूप से विष्णु-उन्मुख, इस पुराण का उद्देश्य तीन देवताओं, ब्रह्मा, विष्णु और शिव के बीच एकता की भावना स्थापित करना है। इस विशाल पुराण में ५०,००० श्लोक हैं।

  भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता

वराह पुराण (Varah Puran)

वराह पुराण
इसमें 218 अध्याय व 24 हजार श्लोक हैं. इसमें विष्णु द्वारा वराह का रूप धारण कर पृथ्वी का उद्धार किये जाने का वर्णन है।

ब्रह्म पुराण (Baramha Puran)

ब्रह्मपुराण अठारह महापुराणों में से एक सबसे प्राचीन पुराण है। इसका दूसरा नाम आदिपुराण या सौरपुराण है। इसमें लगभग २४६ अध्याय तथा १४००० श्लोक है।

ब्रह्मपुराण

इसमें श्रुष्टि की उत्पत्ति ,पौराणिक कथाओं, वंश इतिहास, मन्वन्तर (पौराणिक काल चक्र), देवताओ, और प्राणिओ की उत्पत्ति, मंदिरों और तीर्थ महात्म्य का वर्णन तथा रामायण, कृष्णावतार की कथा का वर्णन मिलता है। पद्म पुराण में ब्रह्मपुराण को राजसिक पुराण कहा गया है।

वायु पुराण (Vayu Puran)

वायुपुराण हिंदू धर्म के अठारह प्रमुख पुराणों में से एक है । इसे शिव पुराण भी कहते है वायु पुराण में 24000 श्लोक और 7 संहिताओं में विभाजित किया गया है। इसमें शिव के बारे में अधिक चर्चा के कारण शिव पुराण का दूसरा भाग माना जाता है। वायुपुराण में खगोल विज्ञान, भूगोल, सृष्टि, युग, तीर्थ, पूर्वजों, श्राद्ध, वंश, ऋषि वंश, वेद शाखाएं, संगीत, शिव भक्ति आदि का विस्तृत चित्रण मिलता है।

मार्कण्डेय पुराण (Markandeya Purana)

मार्कण्डेय पुराण

मार्कण्डेय पुराण प्राचीनतम पुराणों में से एक माना गया है। इसमें अग्नि, इन्द्र, सूर्य आदि देवताओं की चर्चा है। इसमें 9000 श्लोक और 137 अध्याय हैं। भगवती की विस्तृत महिमा का परिचय देने वाले इस पुराण में दुर्गा सप्तशती की कथा, हरिश्चंद्र की कथा, मदालसा-चरित्र की कथा, अत्रि-अनुसूया की कथा जैसी अनेक सुंदर कथाओं का विस्तृत वर्णन है।

भविष्य पुराण (Bhavishya Puran)

भविष्य पुराण

भविष्य पुराण 18 प्रमुख पुराणों में से एक है। भविष्य पुराण में 121 अध्याय और 2800 श्लोक हैं।विषयवस्तु और विवरण शैली की दृष्टि से यह एक विशेष पुस्तक है। इसमें धर्म, नैतिकता, नीति, उपदेश, अनेक कथाएं, व्रत, तीर्थ, दान, ज्योतिष और आयुर्वेद के विषयों का संग्रह है।

  Surdas Ka Janm Kab Hua Tha सूरदास का जन्म कब हुआ था

इसमें वेताल-विक्रम-संवाद के रूप में एक रमणीय कहानी-प्रबंधन है। इसके अलावा दैनिक कर्मकांड, कर्मकांड, समुद्री संकेत, शांति और पौष्टिक कर्म, पूजा और कई व्रतों का विस्तृत विवरण है।

भविष्य पुराण भविष्य में होने वाली घटनाओं का वर्णन करता है। इससे पता चलता है कि भविष्य पुराण में यीशु और मुहम्मद के जन्म से बहुत पहले महर्षि वेद व्यास ने पुराण ग्रंथों को लिखते हुए मुस्लिम धर्म की उत्पत्ति और विकास और ईसा मसीह द्वारा शुरू किए गए ईसाई धर्म के बारे में लिखा था।

अग्नि पुराण (Agni Puran)

अग्नि पुराण में 383 अध्याय और 15000 श्लोक हैं।अग्निपुराण में त्रिमूर्ति – ब्रह्मा, विष्णु और शिव की पूजा और सूर्य की पूजा का वर्णन है तथा भगवान विष्णु के अवतारों का वर्णन करने वाले जैसे मत्स्य अवतार, कूर्म अवतार, मोहिनी अवतार, और रामायण, और महाभारत की कहानियों का भी वर्णन किया गया है।

लिंग पुराण (Linga Purana)

लिंग पुराण अठारह महापुराणों में से एक है जिसमें लक्षण सहित भगवान शिव के सभी अवतारों की कथा ज्योतिर्लिंगों की कथा, ईशान कल्प की कथा, सर्वविसर्ग मिलती है  लिंग पुराण में 11000 श्लोक और 163 अध्याय में भगवान शिव की महिमा का वर्णन किया गया है। इसमें अघोर विद्या का भी उल्लेख है।

ब्रह्मवैवर्त पुराण (Brahma Vaivarta Purana)

ब्रह्मवैवर्त पुराण में ब्रह्मा द्वारा संपूर्ण पृथ्वी-क्षेत्र, जल-मंडल और वायु-मंडल में गति करने वाले जीवों की उत्पत्ति और उनके जन्म और पालन-पोषण के कारणों का विस्तार से वर्णन किया गया है। इसे वैष्णव पुराण भी कहा जाता है। इस ग्रंथ में 18000 श्लोक और 163 अध्यायों का वर्णन है। ‘ब्रह्मवैवर्त पुराण’ में श्री कृष्ण लीला का वर्णन ‘भागवत पुराण’ से काफी भिन्न है। इस पुराण में श्रीकृष्ण को सृष्टि की उत्पत्ति का सार बताया गया है।

स्कन्द पुराण (Skanda Purana)

स्कंद पुराण सबसे बड़ा पुराण है। में 8100 छंद और 60 खंड हैं। इसका नाम शिव के पुत्र कार्तिकेय के नाम पर रखा गया है। स्कंद पुराण नक्षत्रों, नदियों, प्रकाशस्तंभों की प्राचीन भारत की स्मृति है। इसमें बद्रीकाश्रम, अयोध्या, जगन्नाथपुरी, रामेश्वर, कन्याकुमारी, प्रभास, द्वारका, काशी, शाकंभरी, कांची आदि तीर्थों की महिमा; गंगा, नर्मदा, यमुना, सरस्वती आदि नदियों के उद्गम की कथा; रामायण की महानता, भागवतदि ग्रंथ, विभिन्न मासों के व्रत पर्वों की महानता तथा शिवरात्रि, सत्यनारायण आदि व्रत कथाएं बहुत ही रोचक शैली में प्रस्तुत की गई हैं।

कूर्म पुराण (Kurma Puran)

इस पुराण में 17,000 श्लोक हैं, इस पुराण में पुराणों के पांच प्रमुख लक्षणों-सर्ग, प्रतिसर्ग, वंश, मन्वन्तर और वंशानुचरित का व्यवस्थित एवं विस्तृत विवेचन किया गया है

पुराण-विवरण

पुराणों में विष्णु, वायु, मत्स्य और भागवत का ऐतिहासिक चक्रों, राजाओं की वंशावली आदि के रूप में बहुत कुछ है। विष्णु पुराण में मौर्य वंश और कलियुग के गुप्त वंश के लिए ब्रह्मांड के निर्माण का वर्णन मिलता है। पुराणों का उद्देश्य पुरानी कहानियों के माध्यम से प्रचार करना, आम आदमी के दिल में धर्म की दृढ़ भावना रखना, तीर्थ यात्रा की महिमा और महिमा का प्रचार करना था।
उम्मीद करता हूं आपको पुराण क्या है पुराण कितने हैं ( Puran Kitne Hai ) और पुराणों का संक्षिप्त विवरण के बारे में जानकारी अवश्य मिल गई होगी।
Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *