श्री कृष्ण के अनमोल वचन | Shree Krishna Quotes in Hindi

श्री कृष्ण के अनमोल वचन

श्री कृष्ण के अनमोल वचन shri krishna quotes in hindi

इंसान गलत काम करते समय दाएं, बाएं, आगे, पीछे देखता है, बस ऊपर देखना भूल जाता है।
shri krishna quotes in hindi
shri krishna quotes in hindi

कर्म के फल एक व्यक्ति को उसी तरह ढूंढ लेते  हैं जैसे एक बछड़ा अपनी माँ को सैकड़ों गायों के बीच पाता है।

shri krishna quotes in hindi

आत्मा न तो जन्मती है, न मरती है, न उसे जलाया जा सकता है, न ही उसे पानी से गीला किया जा सकता है, आत्मा अमर और अविनाशी है।

shri krishna quotes in hindi
shri krishna quotes in hindi

भगवान श्री कृष्ण के अनमोल वचन lord krishna quotes in hindi

मैं किसी का भाग्य नहीं बनाता और न ही मैं किसी के कर्मों का फल देता हूं।
यह एक व्यक्ति या एक जीव का अपने  कर्म है जो उसके भाग्य का निर्माण करता है।

lord krishna quotes in hindi
lord krishna quotes in hindi

माखन चोर कौन है, बांसुरी वाला कौन है,
वह वह है जो हम सभी को देखता  है।

lord krishna quotes in hindi
lord krishna quotes in hindi

धर्म से ज्यादा महत्वपूर्ण है कर्म
क्योंकि धर्म के लिए भगवान से पूछना पड़ता है
लेकिन भगवान स्वयं कर्म करने  से  फल देते हैं।

lord krishna quotes in hindi
lord krishna quotes in hindi

यह इस भौतिक दुनिया का नियम है
उत्पन्न होने वाली वस्तु कुछ समय तक रहती है
अंत में यह गायब हो जाती  है

श्री कृष्णा जी के अनमोल सुविचार

यदि दुष्ट  केवल अनुनय द्वारा समझ जाते
तो  महाभारत कभी होता ही नहीं।

श्री कृष्ण के अनमोल वचन | Shree Krishna Quotes in Hindi
श्री कृष्णा अनमोल वचन

प्रेम में कोई अलगाव नहीं है
प्रेम परम योग है
आखिरी मिलन है।

राधा कृष्ण अनमोल वचन

क्रोध की स्थिति में भ्रम पैदा होता है
भ्रम बुद्धि को नष्ट कर देता है

जैसे ही उसकी बुद्धि नष्ट होती है, वैसे ही व्यक्ति का पतन आरम्भ  हो जाता  है। 

भगवान श्री कृष्ण के अनमोल वचन
भगवान श्री कृष्ण के अनमोल वचन

आत्मा को हथियार नहीं काट सकता
आग जला  नहीं सकती
पानी  बुझा नहीं  सकता
हवा सूख नहीं सकता  ।

पूरे ब्रह्मांड में
वाणी  एक ऐसी चीज है
जहां विष और अमृत एक साथ रहते हैं

ज्ञानी  से मूर्ख नहीं सीखते
मूर्ख से से ज्ञानी सीखते है

वाणी  को इतना मधुर रखें कि आपको कभी पीछे न हटना पड़े

जीवन में केवल दो लोग असफल होते हैं
एक वह जो सोचता है लेकिन करता  नहीं
दूसरे जो करते हैं लेकिन सोचते नहीं हैं

श्री कृष्णा जी के अनमोल सुविचार

हमेशा संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए खुशी इस दुनिया में नहीं है, न ही कहीं और दूसरी दुनिया में

राधा कृष्ण अनमोल वचन radha krishna quotes in hindi

प्यार दुनिया का सबसे पवित्र बंधन है, लेकिन प्यार मूक्त  है

radha krishna quotes in hindi

केवल वह व्यक्ति जो फल की इच्छा नहीं करता है,कर्म करता रहता है  अपने जीवन को सफल बनाता है

नर्क के तीन दरवाजे हैं, वासना, क्रोध और लालच

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है, वह वही बनता है जो वह मानता है

 शांति से दुखों का अंत  होता है और शांत दिमाग वाला व्यक्ति जल्द ही स्थिर और भगवान से परिपूर्ण हो जाता है।

भगवान श्री कृष्ण के अनमोल वचन lord krishna quotes in hindi

आप व्यर्थ चिंता क्यों करते हैं?
तुम किससे व्यर्थ डरते हो?
कौन तुम्हें मार सकता है
आत्मा न तो पैदा होती है और न ही मरती है।

हर काम फल लाता है- ‘इस जीवन में कुछ भी नहीं खोया या बर्बाद हुआ।’कर्म करते रहो

 विषयों के बारे में सोचने से विषयों का लगाव होता है। आसक्ति इच्छा उत्पन्न करती है और क्रोध इच्छा उत्पन्न करता है। क्रोध सम्मोहन और अविवेक की ओर जाता है।

संयमित संयम एक ज्ञानी व्यक्ति के दिमाग को नियंत्रित करने की कोशिश करते हुए होश में लाता है। जिसकी इंद्रियाँ वश में हैं, उसकी बुद्धि स्थिर है।

 केवल कर्म मानव नियंत्रण में है, फल नहीं।
इसलिए फल  की आसक्ति में मत फंसो और कर्म को मत छोड़ो।
तुमने क्या खोया है कि तुम रोते हो?
तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया?
तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया?
न तो तुम कुछ ले कर आए थे जो तुम ले कर जाओगे ;
जो लिया यही से लिया;
जो तुमने दिया, यही  दिया,
जो लिया, भगवान से लिया;
 जो हुआ अच्छा हुआ।
जो भी होगा अच्छा ही  होगा।
जो हो रहा है वह बेहतर हो रहा है।
अतीत का पश्चाताप मत करो।
भविष्य के बारे में चिंता मत करो।
वर्तमान  चल रहा है।
shri krishna quotes in hindi
shri krishna quotes in hindi
परिवर्तन संसार का नियम है।
जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है।
एक पल में आप करोड़ों के मालिक बन जाते हैं,
दूसरे चरण में आप भिकारी  हो जाते हैं।
shri krishna quotes in hindi
shri krishna quotes in hindi
मैं उन लोगों को ज्ञान देता हूं जो हमेशा मुझसे जुड़े रहते हैं और जो मुझसे प्यार करते हैं।
मैं सभी प्राणियों के हृदय में विद्यमान हूं।

कभी भी अपने आप पर गर्व न करें क्योकि बहुत भारी पत्थर

भी पानी में अपना अस्तित्व खो देता है।

मैं सभी प्राणियों को समान रूप से देखता हूं

किसी को कम प्यार नहीं करता, किसी को ज्यादा नहीं

लेकिन जो मुझे प्यार करते हैं

वह मेरे अंदर रहता है और मैं उसके जीवन में कदम रखता हूं।

क्या बदला जा सकता है उसे बदलो

और क्या नहीं बदला जा सकता है,
उसे स्वीकार करें
और जो स्वीकार नहीं किया जा सकता है,
उससे दुर रहो
लेकिन खुद को खुश रखें

अपने आप पर  विश्वास करो
बल बन जाता है और दूसरों में करो
तब कमजोरी बन जाता है

प्यार को समझना है तो अपने दिमाग की आंख खोलो और प्यार से राधे राधे बोलो।

प्रेम संसार का सबसे शुद्ध बंधन है, लेकिन प्रेम बंधन से मुक्त है।

प्यार उस हवा की तरह है जिसे हम नहीं देखते, लेकिन यह हमें जीवन देती है।

जो वासनाओं का परित्याग करता है और मोह और माया की इच्छा और भावना से मुक्त हो जाता है वह शांति पाता है।

आत्मा पुराने शरीर को वैसे ही छोड़ देती है जैसे आदमी अपने पुराने कपड़े उतारकर नए पहनता है।

मैं सभी प्राणियों को जानता हूँ  मैं सभी के भूत, भविष्य और वर्तमान को जानता हूं। लेकिन मुझे कोई नहीं जानता।

जो व्यक्ति मुझे जिस रूप में पूजा करता है मैं उसे उसकी पूजा का फल उसी रूप देता हूँ ।

कृष्ण अच्छे लोगों की बहुत परीक्षा लेते हैं

लेकिन साथ नहीं छोड़ते

और कृष्ण बुरे लोगों को बहुत कुछ देते हैं,

लेकिन साथ नहीं  है।

एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपने कर्म के प्रतिफल की अपेक्षा रखने वाले अज्ञानी व्यक्ति के मन को विचलित नहीं करना चाहिए।

किसी और के काम को पूरी तरह से करने की तुलना में अपना काम खुद करना बेहतर है भले ही उसे अपूर्ण रूप से करना पड़े।

जो वास्तविक नहीं है उससे डरो मत, कभी नहीं था और कभी नहीं होगा। जो वास्तविक है वह हमेशा से रहा है और कभी नष्ट नहीं हो सकता।

प्रेम में पड़कर कर्तव्य के मार्ग से भटकना मूर्खता है क्योंकि ऐसा करने से न तो तुम स्वर्ग को पाओगे और न ही तुम्हारा यश बढ़ेगा।

अशांत मन को  नियंत्रित करने में कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे नियंत्रित किया जा सकता है।

मान-अपमान, लाभ-हानि, सुख-दुःख ये सब मन के विकार हैं।

जो मन को वश में नहीं करते उनके लिए मन शत्रु का काम करता है।

जब मनुष्य को अपने धर्म पर गर्व होता है,
तो अधर्म उसके हाथ में शुरू होता है।

मनुष्य को अपने कार्य पर ही विश्वास करना चाहिए, कार्य उत्तम होगा तो उसका फल भी प्राप्त होगा।

यह सृष्टि कर्मक्षेत्र है,कर्म किए बिना यहां कुछ भी प्राप्त नहीं हो सकता।

मनुष्य के दुख का कारण उसका प्रेम है, वह जितना प्रेम करेगा, उतना ही कष्ट भोगेगा।

ईश्वर ही भूत वर्तमान और भविष्य के सभी प्राणियों को जानता हूँ, किन्तु वास्तविकता में उस परमात्मा को कोई नहीं जानता |

धरती पर मनुष्य का जन्म किसी विशेष उद्देश्य के लिए होता है,और जो उस कर्म से वंचित रहता है,उसे मोक्ष नहीं मिल पाता है |

सबसे अच्छा होना भी एक महानता है, क्योंकि समाज में लोग श्रेष्ठ पुरुषों को ही फॉलो करते हैं।

जिसने कर्म त्याग दिया है, उसे कर्म नहीं बांधता।

एक बुद्धिमान व्यक्ति को समाज के कल्याण के लिए लगाव के बिना काम करना चाहिए।

जो लोग आध्यात्मिक चेतना के शिखर पर पहुंच गए हैं, उनके लिए मार्ग निःस्वार्थ कर्म है। जो लोग परमात्मा से जुड़ गए हैं उनका मार्ग शांति और शांति है।

एक व्यक्ति जो कुछ भी चाहता है वह बन सकता है यदि वह लगातार विश्वास में वांछित चीज का चिंतन करता है।

वह जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और “मैं ” और “मेरा ” की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है उसे शांती प्राप्त होती है।

एक उपहार तभी अच्छा और शुद्ध होता है जब वह दिल से सही व्यक्ति को, सही समय पर और सही जगह पर दिया जाता है।

जो हमारे हाथ में नहीं है
उसके बारे में चिंता करने का कोई फायदा नहीं है।

जब जब संसार में धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है
तब – तब अच्छे लोगों की रक्षा, दुष्टों का पतन, और धर्म की स्थापना करने के लिए
मैं हर युग में अवतरित होता हूँ।

जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतनी ही निश्चित है
जितना कि मृत होने वाले के लिए जन्म लेना
इसलिए जो अपरिहार्य है उस पर शोक मत करो।

जैसे एक आदमी अपने पुराने कपड़े उतारता है और नए कपड़े पहनता है
इसी तरह मृत्यु के बाद आत्मा अपने पुराने शरीर को त्याग कर नया शरीर प्राप्त करती है।

सुख – दुख, लाभ – हानि और जीत – हार की चिंता किए बिना
मनुष्य को अपनी शक्ति के अनुसार कर्तव्यों और कार्यों का पालन करना चाहिए।
इस तरह कर्म करने से कोई भी पाप नहीं लगता है।

विषयों का चिंतन करने से विषयों की आसक्ति होती है।
आसक्ति से इच्छा उत्पन्न होती है और इच्छा से क्रोध होता है। क्रोध से सम्मोहन और अविवेक उत्पन्न होता है
सम्मोहन से मन भ्रष्ट हो जाता है।
मन नष्ट होने पर बुद्धि का नाश होता है
और बुद्धि का नाश होने से मनुष्य का पतन होता है।

पानी पर तैरती नाव को ले जाने वाला तूफान कैसे आपको आपकी मंजिल से दूर ले जाता है
उसी प्रकार इन्द्रियों का सुख मनुष्य को भटका देता है।

राधा कृष्ण अनमोल वचन
radha krishna quotes in hindi

 

आप मतलब वश संबंध बनाने की कितनी भी कोशिश कर लें
वह कभी नहीं जोड़ा जा सकता है
और प्यार से बने रिश्ते को तोड़ने की आप कितनी भी कोशिश कर लें
वे कभी नहीं टूटते।

radha krishna quotes in hindi
राधा कृष्ण अनमोल वचन

आपको जीवन में सर्वश्रेष्ठ बनने का प्रयास करना होगा,
लेकिन जीवन में हमेशा अच्छे रहो

प्यार एक अनुभव है,
जो इंसान को कभी हारने नहीं देता
और नफरत एक अनुभव है,
जो इंसान को कभी जितने नहीं देता

राधा कृष्ण अनमोल वचन
राधा कृष्ण अनमोल वचन

अगर आप किसी के दोस्त नहीं बन सकते,
तो उससे दुश्मनी भी मत रखना।

राधा कृष्ण अनमोल वचन radha krishna quotes in hindi
radha krishna quotes in hindi

राधा ने श्री कृष्ण से पूछा
प्यार का सही मतलब क्या है
श्री कृष्ण हँसे और बोले
प्रेम में मतलब कहाँ है
प्रेम में केवल प्रेम होता है।

मुझे मिला नहीं मौका अभी,
कि कुछ कर गुजर जाऊँ,
हाथ पकड़ के
निकल दे पार सांवरिया,
कि मैं भी तेरा शुक्र मनाऊँ।।

सावरे तेरी मोहब्बत को एक नए अंत के लिए तैयार है। कल तक मीरा दीवानी थी, आज मेरी बारी है।
यदि आप राधा की कृष्ण भक्ति को जानते हैं, तो आप प्रेम को सही मायने में जानते हैं।

हर रात सुहानी नहीं होती किसी के लिए, हर प्यार के पीछे कोई कहानी नहीं होती, दो आत्माओं के मिलन का कुछ असर होता है, वरना गोरी राधा, सावले कान्हा की दीवानी न होती ।

राधा रानी भजन करो, जीवन के जीवन पर भरोसा मत करो, दुनिया में मीठा कुछ भी मीठा नहीं है, बस राधा रानी का नाम है।

कर्तव्य पथ पर जाते-जाते केशव गये थे रूक, देख दशा राधा रानी, ब्रम्हा भी गये थे झुक।।

राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था, दुनियाँ को प्यार का सही मतलब जो समझाना था।।

राधा की चाहत हैं कृष्ण, उसके दिल की विरासत हैं कृष्ण, चाहे कितना भी रास रचा ले कृष्ण दुनिया तो फिर भी यही कहती हैं राधे कृष्ण राधे कृष्ण।।

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं, राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं।।

राधा के सच्चे प्रेम का यह ईनाम है, कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम है।।

राधे जी का प्यार मुरली की मिठास माखन का स्वाद गोपियन का रास इन से मिल कर बनाता है राधे कृष्णा का प्यार।

मुरली मनोहर ब्रज के धरोहर, वो नंदलाल गोपाल है बंसी की धुन पर सब दुःख हरनेवाला।

तेरे बिना एक सजा है ये जिंदगी मेरे कान्हा किस्मतवाला बस वो है, जो दीवाना है तेरा कान्हा।

कान्हा तेरे साँवले रंग से जलने लगे हैं लोग तेरे जैसा कोई ढूढ़ नहीं पाए हैं लोग इसलिए तुझे तेरे रंग का उलाहना देने लगे हैं लोग।

. बड़ी आस ले कर आया, बरसाने में तुम्हारे कर दो शमा, किशोरी जी अपराध मेरे सारे, सवारू में भी अपना जीवन, श्री राधा नाम जपते जपते प्रेम से बोलो श्री राधे… वो दिन कभी न आए, हद से ज्यादा गरूर हो जाये, बस इतना झुका कर रखना, “मेरे कन्हैया”, की हर दिल दुआ देने को मजबूर हो जाये

 कैसे लफ्जो मे बयां करूँ खूबसुरती तुम्हारी सुंदरता का झरना भी तुम हो मोहब्बत का दरिया भी तुम हो मेरे श्याम

 साँवरे को दिल में बसा कर तो देखो, दुनिया से मन को हटा के देखो, बड़े ही दयालु हैं बाँके बिहारी, एक बार चौखट पे दामन, फैला कर तो देखो

अगर भगवान आप से अधिक इंतजार कर रहे हैं, तो यह तैयार नहीं है, वह उससे अधिक देगा।

जीवन की इस खड़खी में, यह अर्जुन, कृष्णा और खुद ही होना चाहिए,
हर दिन, यह जीवन के महाभारत के खिलाफ लड़ने के लिए एक रक्षक होना चाहिए।

यदि आप अपने आप पर भरोसा करते हैं, तो यह ताकत बन जाता है औरऔर दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है

जब आप सही थे, तो आपको याद नहीं है, लेकिन जब आप गलत थे, तो आप सभी को याद करते हैं।

हर किसी की अपनी ताकत और अपनी कमजोरी है,
मछली जंगल में नहीं चल सकती है और शेर पानी में राजा नहीं बन सकता है,
इसलिए, महत्व सभी को दिया जाना चाहिए।

मैं सभी प्राणियों को समान रूप से देखता हूं, मेरे पास कोई कम प्यारा नहीं है, और नहीं,
लेकिन जो कोई भी मेरी प्रेम की पूजा करना चाहता है वह मेरे और उसके जीवन में रहता है।

उस व्यक्ति के लिए कोई खुशी नहीं है जिसने संदेह किया कि व्यक्ति कहीं भी नहीं है।

लाइफ में कभी भी अपने हुनर पर घमंड मत करना, क्योंकि पत्थर जब पानी गिरता है तो अपने ही वजन से डूब जाता है।

प्रेम में कोई वियोग नही होता है, प्रेम ही अंतिम योग है अंतिम मिलन है।

देने के बदले लेना तो एक बीमारी है, और जो देकर भी कुछ ना ले वो ही तो बांके बिहारी है।

गीता में लिखा हैं
निराश मत होना
कमजोर तेरा वक़्त हैं तू नही

मन अशांत है उसे नियंत्रित करना कठिन है,
लेकिन अभ्यास से इसे वश मे किया जा सकता है

हर पल उससे मिलने की
चाहत क्यों होती है हर पल उसकी
ज़रूरत क्यों होती है
जिसे हम पा नहीं सकते,खुदा जाने उसी
से मोहब्बत क्यों होती है।

अन्य पढ़े

Share this

2 Comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Alert: Content is protected !!