प्लेटो का जीवन परिचय | न्याय सिद्धांत | Biography Of Plato in Hindi

प्लेटो का जीवन परिचय

प्लेटो का जीवन परिचय | Biography Of Plato in Hindi

प्लेटो या अफ़्लातून एक प्राचीन यूनानी दार्शनिक थे जिन्हें  मुख्य विचारकों में से एक माना जाता है।रिपब्लिक” प्लेटो की सबसे प्रसिद्ध कृतियों में से एक है

सामान्य परिचय 

 नाम  Name प्लेटो

वास्तविक  नाम Full Name अरस्तू

जन्म तारीख Date of Birth 427 ईसा पूर्व

जन्म स्थान Place of Birth एथेंस, ग्रीस

मृत्यु Death 347 ईसा पूर्व

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name अरिस्टोन

माता का नाम Mother’s Name पेरिक्टोन

गुरु का नाम सुकरात

 प्लेटो का जीवन परिचय (जीवनी,जन्म और परिवार)

प्लेटो या अफ़्लातून एक प्राचीन यूनानी दार्शनिक थे, जिन्हें  मुख्य विचारकों में से एक माना जाता है। वे सुकरात के शिष्य थे।

उनका दर्शन इस सिद्धांत पर आधारित है कि जिस दुनिया को हम अपनी इंद्रियों से देखते हैं वह एक भ्रामक, भ्रमित दुनिया है। आध्यात्मिक दुनिया उच्चतर है, शाश्वत है

प्लेटो के जन्म के सही समय का कोई प्रमाण नहीं है प्राचीन इतिहासकारों के अनुसार प्लेटो का जन्म लगभग 427 ईसा पूर्व एथेंस, ग्रीस में हुआ था, वह एथेंस के सबसे कुलीन परिवारों में से एक थे।इनके पिता का नाम  ‘अरिस्टोन’था। इनकी  माता  का नाम ‘पेरिक्टोन था।

उनके पिता की मृत्यु शैशवावस्था में ही हो गई थी। उनके पिता की मृत्यु के बाद, उनकी माँ ने उनके चाचा से शादी की। उनके चाचा एक प्रसिद्ध यूनानी राजनीतिज्ञ और फारसी भाषा के विद्वान थे।

उन्होंने विशेष शिक्षा प्राप्त की, पढ़ना और लिखना, संगीत, पेंटिंग, कविता और जिमनास्टिक का अध्ययन किया। वह एक उत्कृष्ट एथलीट थे, उन्होंने  ओलंपिक खेलों में भाग लिया।

  गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी Rabindranath Tagore Ka Jivan Parichay In Hindi

उनका असली नाम अरस्तू था, लेकिन उन्हें “प्लेटो” उपनाम दिया गया था, जिसका ग्रीक में अर्थ है “व्यापक कंधे”।

प्लेटो सुकरात का शिष्य बन गया, इस दार्शनिक के साथ दुनिया और मानवीय गुणों के ज्ञान की समस्याओं को सीखना और चर्चा करना शुरू किया ।

जब सुकरात को “युवाओं को बहखाने ” के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई, तो प्लेटो का राजनीति से मोहभंग हो गया और उन्होंने पूरी तरह से दर्शन की ओर मुड़ने का फैसला किया।

सुकरात के साथ रहने की  उन्हें  कीमत चुकानी पड़ी। उन्हें शहर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया, मेगारा सेवानिवृत्त हुए, जहां वे यूक्लिड के साथ रहते थे।

उन्होंने उस समय , इटली और मिस्र की यात्रा की। अपने स्वयं के दर्शन को सीखने और बनाने में बारह साल लगे। उन्होंने पूर्वी और दक्षिणी इटली की यात्रा की, जहां वे पाइथागोरस के शिष्यों के संपर्क में आए

जब वे एथेंस लौटे, तो 40  साल की उम्र में, उन्होंने दार्शनिक अनुसंधान के लिए समर्पित एक स्कूल खोला, जिसे “अकादमी” कहा जाता था।

 स्कूल में, प्लेटो अपने शिष्यों के साथ दर्शनशास्त्र और विज्ञान का अध्ययन करने के लिए एकत्र हुए। वैज्ञानिक क्षेत्र में, उन्होंने खुद को विशेष रूप से गणित और ज्यामिति के लिए समर्पित कर दिया।

उनके शिष्यों में, जो सबसे अलग था , वह था अरस्तू  जिसने गुरु से असहमत होने के बावजूद, उसके प्रभाव का सामना किया।

529 में, रोमन सम्राट जस्टिनियन ने अकादमी को बंद करने का आदेश दिया

  भगवतशरण उपाध्याय का जीवन परिचय Bhagwat Sharan Upadhyay Ka Jivan Parichay

प्लेटो का न्याय सिद्धांत

न्याय दर्शन इतिहास में महत्वपूर्ण मुद्दों में से एक है। सुकरात प्लेटो के प्रेरणा स्रोत थे। सुकरात के प्रश्न न्याय की प्रकृति के बारे में थे। सुकरात के बाद प्लेटो ने न्याय के सिद्धांत की व्याख्या की।

प्लेटो के अनुसार न्याय क्या है ?  न्याय क्या होना चाहिये?। प्लेटो  अपनी सबसे महत्वपूर्ण कृति ‘रिपब्लिक’  में न्याय के सिद्धांत की चर्चा की और आदर्श राज्य की अवधारणा का विवरण है । न्याय के सिद्धांत में प्लेटो ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति एक कार्यात्मक इकाई है, प्लेटो के अनुसार, न्याय व्यक्ति का, व्यक्तिगत आत्मा  का गुण है। इसे मनुष्य के मनऔर उसके कार्यों, गुणों  का अध्ययन करके समझा जा सकता है। प्लेटो के समय न्याय के तीन सिद्धांत प्रचलित थे। 

प्लेटो का न्याय सिद्धांत के 3 नियम

1.परंपरागत सिद्धांत– इस सिद्धांत के प्रवर्तक सेफालस और उनके पुत्र पोलीमार्चस थे। सेफलस के अनुसार, “सच बोलना और कर्ज को चुकाना  न्याय है।”पोलिमार्कस के अनुसार, “न्याय मित्र के साथ अच्छा व्यवहार करने और शत्रु के साथ बुरा व्यवहार करना  है।”

प्लेटो के अनुसार न्याय वह है जो देने वाले और लेने वाले, मित्र और शत्रु दोनों के लिए अच्छा हो।

2.क्रांतिकारी सिद्धांत–इसके  प्रतिपादक थ्रिसिमाचस थे । थ्रेसी के अनुसार, ‘न्याय बलवानों की आत्म-पूर्ति का साधन है।’ राज्य अपने फायदे के लिए कानून बनाता है।

प्लेटो ने सुकरात का उद्धरण देकर तर्क दिया कि जूता बनाने वाला स्वयं अपने बनाए हुए सभी जूतों को नहीं पहनता

3.व्यावहारिक सिद्धांत – इस सिद्धांत के प्रवर्तक ग्लूकोन थे ।उस समय कमजोरों की स्थिति बहुत दयनीय थी। उन्हें अनेक प्रकार के कष्ट सहने पड़ते थे ।अब हम न तो अत्याचार करेंगे और न ही अत्याचार होने देंगेका सिदांत दिया। प्लेटो को  इस सिद्धांत से सहमत नहीं थे । उनके अनुसार मन मनुष्य का बाहरी तत्व नहीं बल्कि आंतरिक तत्व है।  मनुष्य राज्य के नियमों का पालन राज्य के डर से नहीं बल्कि स्वेछा से करते  है।

  पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी का जीवन परिचय Padumlal Punnalal Bakshi ka Jivan Parichay

प्लेटो की मृत्यु Death of Plato

प्लेटो की मृत्यु ग्रीस के एथेंस में वर्ष 347 ईसा पूर्व में हुई थी। प्राचीन स्रोत प्लेटो की मृत्यु के अलग-अलग विवरण प्रस्तुत करते हैं। एक स्रोत के अनुसार प्लेटो एक थ्रेसियन बांसुरी लड़की की मधुर आवाज सुनकर अपने बिस्तर पर शांति से मर गया। एक अन्य सूत्र स्रोत के अनुसार एक दोस्त की शादी की दावत में शामिल होने के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। एक अन्य सूत्र स्रोत के अनुसार वह नींद में मर गया।

प्लेटो की कृतियाँ

रिपब्लिक” प्लेटो की सबसे प्रसिद्ध कृतियों में से एक है, यह सांसारिक स्वर्ग का वर्णन है। इसमें उन्होंने अपना “आदर्श राज्य” बनाने कीकल्पना  की। इसमें प्लेटो के  न्याय का सिद्धांत,शिक्षा सिद्धांत,राजनीतिक विचार है। अन्य कृतियाँ द एपोलॉजी, फेडो, द क्रिटो, लाचेस, लिसिस, चार्माइड्स, युथीफ्रो, हिप्पीअस माईनर एंड मेजर, प्रोटागोरस, गोर्जिअस, आयॉन आदि है

प्लेटो की रिपब्लिक Plato Republic

प्लेटो ने प्रत्येक व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता को ध्यान में रखते हुए, आदर्श समाज को तीन वर्गों में विभाजित किया

पहले वर्ग में किसान, शिल्पकार और व्यापारी आते है जो शरीर की जरूरतों से सम्बंधित है

 दूसरा वर्ग में सेना वर्ग जो  रक्षा के लिए समर्पित होगा।

शासक  दार्शनिक सबसे उच्च वर्ग, तर्क का बेहतर उपयोग करने में सक्षम, बुद्धिजीवी होंगे, जिनके पास राजनीतिक शक्ति भी होगी: इस प्रकार राजाओं को दार्शनिकों में से चुनना होगा।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!