डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय Dr Bhim Rao Ambedkar In Hindi

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय Dr Bhim Rao Ambedkar In Hindi

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय भारत को संविधान देने वाले महान नेता डॉ. भीम राव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के एक गांव में हुआ था। भीमराव अंबेडकर का जन्म महार जाति में हुआ था जिसे लोग अछूत और बेहद निचला वर्ग मानते थे। भीमराव अंबेडकर के बचपन का नाम रामजी सकपाल था।ये अपने पिता की की 14वीं व अंतिम संतान थे। अछूत जाति होने के कारण  उनका बचपन बहुत ही मुश्किलों में व्यतीत हुआ।

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय मुख्य बिन्दु Dr Bhim Rao Ambedkar In Hindi

 नाम  Name भीमराव रामजी आम्बेडकर

अन्य नाम  बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर

dr भीमराव अम्बेडकर

जन्म तारीख Date of Birth 14 अप्रैल 1891

जन्म स्थान Place of Birth  महू, मध्य प्रांत, ब्रिटिश भारत

मृत्यु Death  6 दिसम्बर 1956

नागरिकता Nationality भारतीय

Home Town राजगृह, मुम्बई 

 २६ अलिपूर रोड, डॉ॰ आम्बेडकर राष्ट्रीय स्मारक, दिल्ली

नागरिकता Nationality भारतीय

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name रामजी मालोजी सकपाल

माता का नाम Mother’s Name भीमाबाई

बच्चे  यशवंत आम्बेडकर

जीवन संगी  रमाबाई आम्बेडकर

(विवाह 1906 – निधन 1935)

 डॉ॰ सविता आम्बेडकर

(विवाह 1948 – निधन 2003)

अन्य जानकारी Other Information

सम्मान  Awards भारत रत्न (1990)

शैक्षिक योग्ताये 

मुंबई विश्वविद्यालय (बी॰ए॰)

 कोलंबिया विश्वविद्यालय

(एम॰ए॰, पीएच॰डी॰, एलएल॰डी॰)

लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स

(एमएस०सी०,डीएस॰सी॰)

ग्रेज इन (बैरिस्टर-एट-लॉ)

राजनीतिक दल का नाम 

शेड्युल्ड कास्ट फेडरेशन
स्वतंत्र लेबर पार्टी
भारतीय रिपब्लिकन पार्टी

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर शिक्षा और महत्वपूर्ण कार्य

1907 में, उन्होंने  मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की और अगले वर्ष उन्होंने एलफिंस्टन कॉलेज में प्रवेश लिया, जो बॉम्बे विश्वविद्यालय से संबद्ध था,  ऐसा करने वाले उनकी महार जाति के पहले व्यक्ति थे । वे  अपनी अंग्रेजी चौथी कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर उनके समुदाय के लोग जश्न मनाना चाहते थे क्योकि ऐसा करने वाले महार जाती के पहले व्यक्ति थे। उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में अपनी डिग्री प्राप्त की।

22 वर्ष की आयु में, भीमराव अम्बेडकर सयाजीराव गायकवाड़ स्कॉलरशिप पाकर संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए। 1915 में एम.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की।1916 में, लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में दाखिला लिया, जहां उन्होंने डॉक्टरेट थीसिस पर काम करना शुरू किया। जून 1917 में, वे भारत लौट आए क्योंकि बड़ौदा से उनकी छात्रवृत्ति समाप्त हो गई थी। उनकी थीसिस “रुपये की समस्या: इसकी उत्पत्ति और इसका समाधान” पर थी। छात्रवृत्ति की शर्त के अनुसार बडौदा नरेश के दरबार में सैनिक अधिकारी तथा वित्तीय सलाहकार का दायित्व स्वीकार किया। लेकिन पूरे शहर में उनको किराये पर रखने के लिए  कोई तैयार नही हुआ।

  हेनरी फोर्ड का जीवन परिचय | Henry ford Bell Biography In Hindi

जब वे संयुक्त राज्य अमेरिका से लौटे, तो बड़ौदा के महाराजा ने अम्बेडकर को अपना राजनीतिक सचिव नियुक्त किया।

 अम्बेडकर को बॉम्बे प्रेसीडेंसी कमेटी ने 1925 में साइमन कमीशन में काम करने के लिए नियुक्त किया था।

 उन्होंने कालकापुर के महाराजा शाहजी द्वितीय की मदद से 1920 में “मूकनायक” नामक एक समाचार पत्र शुरू किया। इस घटना ने देश के सामाजिक-राजनीतिक क्षेत्र में भी कोहराम मचा दिया था।

 1920 में इन्होंने दी ऑल इंडिया डिप्रेस्ड क्लास फेडरेशन की स्थापना की किसे कहा यह भारतीय स्तर के नेता बन  गए 1924 में बी ऑल इंडिया डिप्रेस्ड क्लास स्टेशन तथा 1924 हितकारिणी सभा की स्थापना की 1922 में इन्होंने मराठी भाषा में बहिस्कृत भारत नामक पत्रिका का  प्रकाशन शुरू किया 1927 में इन्होंने समाज समता संघ स्थापित  किया मजदूर वर्ग की हितों की रक्षा के लिए इन्होंने स्वतंत्र श्रमिक पार्टी का भी गठन किया

 1927 तक अम्बेडकर ने दलित अधिकारों के लिए पूर्ण गति से आंदोलन की शुरुआत की। उन्होंने सार्वजनिक पेयजल स्रोतों को सभी के लिए खुला और सभी जातियों के लिए सभी मंदिरों में प्रवेश करने की मांग की। उन्होंने नासिक में कलाराम मंदिर में घुसने के लिए भेदभाव की वकालत करने के लिए हिंदुत्ववादियों की निंदा की और प्रतीकात्मक प्रदर्शन किए।

1932 में, भीमराव अम्बेडकर को लंदन में दूसरे गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था जहाँ उन्होंने दलितों के लिए अलग निर्वाचक मंडल की मांग की थी। महात्मा गांधी अछूतों के लिए अलग निर्वाचक मंडल के खिलाफ थे।

  1932 में   महात्मा गांधी संस्थाएं घोषणा की कि खिलाफ अनशन पर बैठने का निश्चय  निश्चय किया तब डॉक्टर अंबेडकर पूना पैक्ट के लिए  सहमत हो गई रिस्पेक्ट के तहत दलित वर्गों को समान हिंदू वर्गों से आरक्षित सीटें दे दी गई 1936 के अंत तक डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने दूसरा धर्म स्वीकार करने का निर्णय लिया उन्होंने सिख धर्म को अपना भी  लिया लेकिन यह धर्मपरिवर्तन  बहुत ही गुप्त रखा गया ऐसी स्थिति में ब्रिटिश सरकार ने आरक्षण जारी रखने की कोई गारंटी नहीं थी।

  बंकिम चंद्र चटर्जी का जीवन परिचय | Biography of Bankim Chand Chatterjee In Hindi

 1936 में भीमराव अम्बेडकर ने ‘स्वतंत्र लेबर पार्टी’ की स्थापना की। 1937 में केंद्रीय विधान सभा के चुनाव में, उनकी पार्टी ने 15 सीटें जीतीं। अम्बेडकर ने अपने राजनीतिक दल के परिवर्तन को अखिल भारतीय अनुसूचित जाति संघ में बदल दिया, हालांकि इसने भारत के संविधान सभा के लिए 1946 में हुए चुनावों में खराब प्रदर्शन किया।

भीमराव अम्बेडकर ने कांग्रेस और महात्मा गांधी के अछूत समुदाय को हरिजन कहने के फैसले पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि अछूत समुदाय के सदस्य भी समाज के अन्य सदस्यों के समान हैं। तब अंबेडकर को रक्षा सलाहकार समिति और वाइसराय के कार्यकारी परिषद में श्रम मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था।

1942 में  इन्होंने जनजाति संघ फेडरेशन की स्थापना की यूनियन में अंग्रेजों से सिर्फ इसलिए राजनीतिक सहयोग किया क्योंकि जनजातियों को अपना अधिकार मिलने में सहायता मिलेगी 1940 में इसलिए उन्हें  वायसराय की कार्यकारिणी में सदस्यता मिली

भीमराव अम्बेडकर शिक्षा, सरकारी नौकरियों और सिविल सेवाओं में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के सदस्यों के लिए आरक्षण शुरू करने के लिए विधानसभा का समर्थन प्राप्त करने में सफल रहे।

1947 में भारत स्वतंत्र हुआ तब पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर को आमंत्रित किया था।  29 अगस्त 1947 को उन्हें स्वतंत्र भारत के संविधान के लिए संविधान मसौदा समिति के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। स्वतंत्रता के बाद, उन्हें भारत के कानून मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था।अम्बेडकर ने समाज के सभी वर्गों के बीच एक वास्तविक सेतु के निर्माण को प्रज्वलित किया। भिन्न-भिन्न वर्गों के भेदों को भिन्न-भिन्न वर्गों में बाँटा गया है।

अक्टूबर 1948 में डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने हिन्दू कोड बिल संविधान सभा में प्रस्तुत किया। बिल को लेकर कांग्रेस पार्टी में भी काफी मतभेद थे। बिल पर विचार के लिए इसे सितम्बर 1951 तक स्थगित कर दिया गया। बिल को पास करने के समय इसे छोटा कर दिया गया। अम्बेडकर ने उदास होकर कानून मंत्री के पद से त्याग पत्र दे दिया। उन्होंने नई पार्टी का निर्माण किया  जिसका नाम था अखिल  भारतीय जनजाति महासंघ चुनाव  इस पार्टी ने चुनाव भी लड़े लेकिन आरक्षित सीटों में वह कांग्रेस आगे टिक नहीं सकी।

1950 में,भीमराव अम्बेडकर बौद्ध विद्वानों और भिक्षुओं के एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए श्रीलंका गए। अपनी वापसी के बाद उन्होंने बौद्ध धर्म पर एक किताब लिखने का फैसला किया। अपने भाषणों में, अम्बेडकर ने हिंदू रीति-रिवाजों और जाति विभाजन को ललकारा।अंबेडकर ने 1955 में भारतीय बौद्ध महासभा की स्थापना की।  1956 में इन्होंने धर्मान्तरण  किया  और लगभग 5 लाख  अनुयायियों के साथ मिलकर बौद्ध धर्म को अपना लिया इसमें भाग लेने वाले अधिकतर महार जाति के और आगरा के जाटव जाति के ही थे

  महादेवी वर्मा का जीवन परिचय | Mahadevi Verma Ka Jivan Parichay

 राजनेता के रूप में

1936 में, अम्बेडकर ने इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी की स्थापना की, जिसने बाद में केंद्रीय विधानसभा चुनाव लड़ा और 15 सीटें जीतीं। 1941 और 1945 के बीच उन्होंने ‘थॉट्स इन पाकिस्तान’ जैसी कई किताबें प्रकाशित कीं। इस किताब में मुसलमानों के लिए अलग देश बनाने की मांग का कड़ा विरोध किया गया था. अम्बेडकर का भारत के प्रति दृष्टिकोण अलग था। वह पूरे देश को बिना टूटे देखना चाहते थे, इसलिए उन्होंने उन नेताओं की नीतियों की कड़ी आलोचना की जो भारत को विभाजित करना चाहते थे।

15 अगस्त 1947 को भारत की आजादी के बाद, अंबेडकर पहले कानून मंत्री बने और उनकी बिगड़ती सेहत के बावजूद उन्होंने भारत को एक मजबूत कानून दिया। फिर उनका लिखित संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ और इसके अलावा भीमराव अंबेडकर के विचारों से भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना हुई। आखिर राजनीतिक मुद्दों से जूझते हुए भीमराव अंबेडकर की तबीयत दिन-ब-दिन बिगड़ती गई और फिर 6 दिसंबर 1956 को उनका निधन हो गया। उन्होंने समाज की सोच को काफी हद तक बदल दिया था, उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि दलितों और महिलाओं को उनका अधिकार मिले

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की मृत्यु कैसे हुई

1954 के बाद से भीमराव अंबेडकर मधुमेह और कमजोर दृष्टि सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित थे। डॉ. भीमराव अंबेडकर का निधन 6 दिसंबर 1956 को हुआ था।

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर पुस्तकें

पुस्तक का नाम और प्रकाशन का वर्ष
भारत का राष्ट्रीय अंश 1916
भारत में जातियां और उनका मशीनीकरण 1916
भारत में लघु कृषि और उनके उपचार 1917
मूल नायक (साप्ताहिक) 1920
ब्रिटिश भारत में साम्राज्यवादी वित्त का विकेंद्रीकरण 1921
रुपये की समस्या: उद्भव और समाधान 1923
ब्रिटिश भारत में प्रांतीय वित्त का अभ्युदय 1925
बहिष्कृत भारत (साप्ताहिक) 1927
जनता (साप्ताहिक) 1930
जाति विच्छेद 1937
संघ बनाम स्वतंत्रता 1939
पाकिस्तान पर विचार 1940
श्री गाँधी एवं अछूतों की विमुक्ति 1942
रानाडे, गाँधी और जिन्ना 1943
कांग्रेस और गाँधी ने अछूतों के लिए क्या किया 1945
शूद्र कौन और कैसे 1948
महाराष्ट्र भाषाई प्रान्त 1948
भगवान बुद्ध और उनका धर्म 1957

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!