50+ स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन | Swami Vivekananda Quotes In Hindi

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन Swami Vivekananda Quotes In Hindi

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन Swami Vivekananda Quotes In Hindi स्वामी विवेकानंद आधुनिक भारत के महान प्रेरणा स्त्रोत माने जाते हैं उनकी प्रेरणा से भरे प्रवचन हमें सही जीवन की दिशा दिखाते हैं हमारे जीवन में निराशा को दूर करो आशा का संचार करने का काम करते हैं स्वामी विवेकानंद के विचार इस पोस्ट के माध्यम से हम उनके कुछ प्रसिद्ध विचारों को पढ़ेंगे उम्मीद करते हैं कि यह विचार आपको प्रेरणा प्रदान करेंगे ।

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन

 

उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन

ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं. वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है!
स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन

दुनिया महान व्यायामशाला है जहां हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं।

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

सत्य को हजार अलग-अलग तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य हो सकता है।

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

दिल और मस्तिष्क के बीच संघर्ष में, अपने दिल का पालन करें।

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

सारी शक्ति तुम्हारे भीतर है; आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं।

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

सबसे बड़ा पाप खुद को कमजोर समझना है

वे अकेले रहते हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं।

हम वही हैं जो हमारे विचारों ने हमें बनाया है; इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि आप क्या सोचते हैं। शब्द गौण हैं। विचार रहते हैं; वे दूर तक यात्रा करते हैं।

आपको अंदर से बाहर की तरफ बढ़ना होगा। तुम्हें कोई नहीं सिखा सकता, कोई तुम्हें आध्यात्मिक नहीं बना सकता। कोई दूसरा शिक्षक नहीं है, बल्कि आपकी अपनी आत्मा है।

एक विचार उठाइए। उस एक विचार को अपना जीवन बना लो – उसके बारे में सोचो, उसका सपना देखो, उस विचार पर जियो। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के प्रत्येक भाग को उस विचार से भरा होने दें, और हर दूसरे विचार को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का रास्ता है।

कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है

अपने जीवन में जोखिम उठाएं, यदि आप जीतते हैं, तो आप नेतृत्व कर सकते हैं! यदि आप ढीले हैं, तो आप मार्गदर्शन कर सकते हैं

शक्ति ही जीवन है; कमजोरी मृत्यु है।

ध्यान मूर्खों को साधु बना सकता है लेकिन दुर्भाग्य से मूर्ख कभी ध्यान नहीं लगाते हैं।

आप अपने भाग्य के निर्माता हैं।

दिन में एक बार खुद से बात करें .. अन्यथा आप इस दुनिया में एक उत्कृष्ट व्यक्ति से मिलने से चूक सकते हैं।

सारी शक्ति तुम्हारे भीतर है; आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं।

सफल होने के लिए, आपके पास जबरदस्त दृढ़ता, जबरदस्त इच्छाशक्ति होनी चाहिए। “मैं समुद्र को पी जाऊंगा,” दृढ़ता वाली आत्मा कहती है, “मेरी इच्छा के अनुसार पहाड़ उखड़ जाएंगे।” उस तरह की ऊर्जा, उस तरह की इच्छा, कड़ी मेहनत करें और आप लक्ष्य तक पहुंचेंगे।

विश्वास, विश्वास, अपने आप में विश्वास, विश्वास, भगवान में विश्वास- यह महानता का रहस्य है। यदि आपको अपने सभी पौराणिक देवताओं में सभी तीन सौ और तीस करोड़ का विश्वास है, और उन सभी देवताओं में, जिन्हें विदेशियों ने अब फिर से आपके बीच में पेश किया है, और अभी भी आप में कोई विश्वास नहीं है, तो आपके लिए कोई उद्धार नहीं है

अन्य पढ़े

  दोस्ती पर सुविचार Quotes on Friendship In Hindi

कन्फ़्यूशियस के अनमोल विचार

स्वामी दयानंद सरस्वती के विचार

अरस्तु पर अनमोल वचन

एलन मस्क के अनमोल विचार

महात्मा गाँधी के अनमोल वचन

अल्फ्रेड नोबेल के अनमोल वचन

विंस्टन चर्चिल के अनमोल वचन

गौतम बुद्ध के अनमोल वचन

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन  Swami Vivekananda Quotes In Hindi

उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो , तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो , तुम तत्व नहीं हो , ना ही शरीर हो , तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो।

आपको जो शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक रूप से जो वस्तु आपको निर्मल बनाती है उस वस्तु विष के समान है उसका परित्याग कर देना चाहिए

हम स्वयं अपने भाग्य विधाता हाय क्योंकि हम जो बोते हैं वही काटते हैं ।

जो व्यक्ति निस्वार्थ भाव से कार्य करते हैं वही सफल होते हैं सच्ची सफलता का यही रहस्य हैं ।

प्रेम विस्तार है , स्वार्थ संकुचन है।  व्यक्ति को प्रेम के लिए प्रेम करना चाहिए स्वार्थ के लिए नहीं सही जीवन जीने का यही सिद्धांत होना चाहिए प्रेम ही जीवन का सिद्धांत हैं ।

आपको कभी ऐसा नहीं सोचना चाहिए की आत्मा के लिए कुछ संभव है यह विधर्मी है अगर आप ऐसा सोचते हैं तो यह पाप है अपने आप को निर्बल समझना भी पाप है ।

कुछ मत पूछो , बदले में कुछ मत मांगो ,जो देना है वो दो ; वो तुम तक वापस आएगा , पर उसके बारे में अभी मत सोचो।

आकांक्षा , अज्ञानता , और असमानता – यह बंधन की त्रिमूर्तियां हैं।

जब लोग तुम्हे गाली दें तो तुम उन्हें आशीर्वाद दो। सोचो , तुम्हारे झूठे दंभ को बाहर निकालकर वो तुम्हारी कितनी मदद कर रहे हैं

जीवन का रहस्य केवल आनंद नहीं है बल्कि अनुभव के माध्यम से सीखना है।

स्त्रियो की स्थिति में सुधार न होने तक विश्व के कल्याण का कोई भी मार्ग नहीं है।

 आज्ञा देने की क्षमता प्राप्त करने से पहले प्रत्येक व्यक्ति को आज्ञा का पालन करना सीखना चाहिए।

हम भले ही पुराने सड़े घाव को स्वर्ण से ढक कर रखने की चेष्टा करे, एक दिन ऐसा आएगा जब वह स्वर्ण वस्त्र खिसक जायेगा और वह घाव अत्यंत वीभत्स रूप में आँखों के सामने प्रकट हो जायेगा

अगर आप ईश्वर को अपने भीतर और दूसरे वन्य जीवो में नहीं देख पाते, तो आप ईश्वर को कही नहीं पा सकते।

आदर्श, अनुशासन, मर्यादा, परिश्रम, ईमानदारी और उच्च मानवीय मूल्यों के बिना किसी का जीवन महान नहीं बन सकता।

पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता, एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान।ध्यान से ही हम इन्द्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते है।

संभव की सीमा जानने केवल एक ही तरीका है असम्भव से आगे निकल जाना

सुख और दुःख सिक्के के दो पहलु है। सुख जब मनुष्य के पास आता है तो दुःख का मुकुट पहन कर आता है

विश्व में अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते है, क्योंकि उनमे समय पर साहस का संचार नही हो पाता। वे भयभीत हो उठते है।

पवित्रता, धैर्य तथा प्रयत्न के द्वारा सारी बाधाये दूर हो जाती है। इसमें कोई संदेह नहीं की महान कार्य सभी धीरे -धीरे होते है।

जब तक लाखो लोग भूखे और अज्ञानी है तब तक मै उस प्रत्येक व्यक्ति को गद्दार मानता हुँ जो उनके बल पर शिक्षित हुआ और अब वह उसकी और ध्यान नही देता।

देश की स्त्रियां विद्या, बुद्धि अर्जित करे, यह मै ह्रदय से चाहता हूँ, लेकिन पवित्रता की बलि देकर यदि यह करना पड़े तो कदापि नहीं।

जब प्रलय का समय आता है तो समुद्र भी अपनी मर्यादा छोड़कर किनारों को छोड़ अथवा तोड़ जाते है, लेकिन सज्जन पुरुष प्रलय के समान भयंकर आपत्ति एवं विपत्ति में भी अपनी मर्यादा नहीं बदलते।

डर निर्बलता की निशानी है।

जीवन का मार्ग तैयार स्वयं करना पड़ता है, जिसने भी मार्ग बनाया उसकी नियति एक ही है।

कर्म का सिद्धांत कहता है – ‘जैसा कर्म वैसा फल’। भाग्य प्रयास पर निर्भर करता है।

वास्तव में शिक्षा वही कहलाएगी जिसके द्वारा मनुष्य जीवन का निर्माण चरित्र का निर्माण तथा समाज में सामंजस्य स्थापित करें सही मायनों में वही व्यक्ति की बातचीत होगी ।

आपको आंतरिक शक्ति से बाहरी शक्ति को विकसित करना होगा आपको यह स्वयं सीखना होगा क्योंकि आपको कोई आध्यात्मिक नहीं बना सकता आपके अंतरात्मा ही आप का सबसे बड़ा शिक्षक है ।

विश्व में सभी भेदभाव भूलकर एकता को विकसित करना चाहिए ।

आप एक विचार लो उस पर आप अपनी समस्त शक्ति लगा दे आप उसी विचार के बारे में सोचें उसी के सपने देखें आप उसको अपने शरीर के समस्त अंगों में बसाले सफलता पाने का बस यही एक तरीका है ।

आत्मा के लिए कुछ भी असंभव नहीं है ।

डर और हमारी अधूरी इच्छाएं ही सभी दुखों का मुख्य कारण होती हैं ।

जो व्यक्ति दूसरों के लिए जिंदा है वही व्यक्ति सही मायने में जिंदा है जो अपने लिए जीते हैं वह मृत समान है ।

हम वही बनते हैं जो हमारी सोच में बनाती है इसलिए आप इस बात का ध्यान रखें कि आप क्या सोचते हैं ।

जब आप स्वयं पर विश्वास नहीं करते तो आप भगवान पर कैसे विश्वास कर सकते हैं तक आपको स्वयं पर भरोसा नहीं तो भगवान लोगों से कैसे होगा ।

सत्य को हजारों तरीके से बताया जाए लेकिन सत्य हमेशा एक ही होता है ।

बाहरी स्वभाव आंतरिक स्वभाव का एक प्रतिबिंब होता है ।

यह हमारा कर्तव्य है कि किसी के आदर्श जीवन जीने की मदद करें और उस आदर्श को अधिक निकट लाने का प्रयास करें ।

आप किसी दूसरे की बुराई ना करें अगर आप किसी की मदद करते हैं तो जरूर करें अगर आप किसी की सहायता नहीं कर सकते तो उसकी राहों में कांटे ना बिछाए ।

 

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!