स्वामी दयानंद सरस्वती के जीवन परिचय ,विचार | Swami Dayanand Saraswati Biography Quotes in Hindi

स्वामी दयानंद सरस्वती के जीवन परिचय ,विचार | Swami Dayanand Saraswati Biography Quotes in Hindi

 

स्वामी दयानंद सरस्वती का जीवन परिचय

नाम महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती

बचपन का नाम मूलशंकर

जन्म Date of Birth – 12 फ़रवरी, 1824 , मोरबी गुजरात

मृत्यु  30 अक्टूबर, 1883 ,  अजमेर

पारिवारिक जानकारी Family Information

माता का नाम  अमृत बाई

पिताका नाम  करशनजी लालजी तिवारी

नागरिकता भारतीय

अन्य जानकारी Other Information

सम्मान  भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रणेता

उपलब्धि (Achievement) आर्य समाज की स्थापना

 स्वामी दयानंद सरस्वती जी का जन्म 1874  मोरबी गुजरात  जिले में हुआ था उनके बचपन का नाम मूलशंकर  था. स्वामी पूर्णानंद ने 1848 में  इनका नाम स्वामी दयानंद सरस्वती दिया था यह बचपन से घर द्वार छोड़कर शादी सन्यासियों साथ रहने लगे 1861 में मथुरा में इनकी भेठ अंधे स्वामी विरजानंद से हुई और उनके  शिष्य बन गए  उन्होंने साधु-संतों के बीच में ही रहकर संस्कृत भाषा सीखे स्वामी जी ने पंजाब महाराष्ट्र उत्तरप्रदेश जैसे अनेक दूरस्थ स्थानों का भ्रमड  किया। इस भ्रमण का मुख्य उद्देश्य वैदिक धर्म की ब बातों का प्रचार करना था।  इन्होंने वेदों की ओर लौट चलो का नारा दिया। स्वामी दयानंद सरस्वती ने छुआछूत जाति व्यवस्था का विरोध किया। परंतु वर्ण व्यवस्था का समर्थन किया।

 इन्होंने हिंदू धर्म को प्रतिष्ठित करने के लिए 10 सिद्धांतों का स्थापना की

 सत्य केवल वेदों में हीं था इस कारण वेदों का अध्ययन करना जरूरी है

 वेद मंत्रों के आधार पर हवन  किया जाना चाहिए।

 मूर्ति पूजा का विरोध किया  अवतारवाद और धार्मिक यात्राओं का विरोध किया।

कर्म सिद्धांत और आगमन सिद्धांत का समर्थन किया।

निराकार ईश्वर की एकता में विश्वास करने को को कहा।

  कन्फ़्यूशियस के अनमोल विचार | Confucius quotes in Hindi

.स्त्री शिक्षा को प्रोत्साहित करने को कहा विशेष परिस्थितियों में विधवा विवाह की स्वीकृति दी।

बाल विवाह  बहु विवाह का विरोध किया।

हिंदी संस्कृत भाषा का प्रचार किया।

 इन्होंने 1875 में आर्य समाज की स्थापना की.बाद में भारत के हर एक कोने में आर्य समाज की शाखा स्थापित हो गई। स्वामी दयानंद सरस्वती की मृत्यु 30 अक्टूबर 1833  को हो गई।

 प्रमुख तथ्य

1874 में दयानंद ने सत्यार्थ को प्रकाशित किया।

 धर्म परिवर्तन को बचाने के लिए अनुसूची आंदोलन चलाया।

इनके द्वारा लिखी गई पुस्तक वेद भाष्य और वेद भाष्य भूमिका।

 1886 में लाहौर में दयानंद एंग्लो वैदिक कॉलेज की स्थापना की

 आर्य समाज की उपलब्धियां

आर्य समाज की स्थापना 10 अप्रैल  1875 को मुंबई में स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा की गई।

 आर्य समाज की प्रमुख उपलब्धियां

 सती प्रथा बाल विवाह बहु  विवाह पर्दा प्रथा आदि को समाप्त करने के लिए सम्मत तैयार किया।

 छुआछूत तो खत्म करने के लिए आंदोलन चलाया।

वेश्यावृत्ति को ख़त्म करने के लिए कानून बनाने पर जोर दिया।

 भारत में अनेक शैक्षिक संस्थाओं की स्थापना की।

 मूर्ति पूजा का धार्मिक आडंबर का विरोध किया था वेदों के प्रति आस्था उत्पन्न करवाई।

मृत्यु का कारण

 1 883 में जोधपुर के महाराज में स्वामी दयानंद सरस्वती को  आमंत्रित किया  एक बार महाराज नन्ही  बाई नाम की नतर्की  के साथ कुछ समय व्यतीत कर रहे थे।  स्वामी दयानन्द स्वरसती जी ने देख कर कहा आप इस तरह विलासी जीवन जी कर ज्ञान की प्राप्ति नहीं कर सकते। स्वामी जी के समझाने के बाद राजा ने  उस  नर्तकी से सारे रिश्ते तोड़ दिए  नर्तकी स्वामी दयानन्द स्वरसती से नाराज हो गई और उसने रसोईया के साथ मिलकर उनके खाने में कांच के टुकड़े मिला दिये।   इससे स्वामी जी का स्वास्थ्य खराब हो गया राजा ने स्वामी जी का उपचार करने का भरपूर प्रयत्न किया  था अंत में स्वामी जी का उपचार के  लिए अजमेर  में लाया गया जहां उनकी मृत्यु हो गई।

  मौके का फायदा शायरी , अनमोल वचन | Quotes on avsar

स्वामी दयानंद सरस्वती के विचार Swami Dayanand Saraswati Quotes in Hindi

 दुनिया को अपना सर्वश्रेष्ठ दें, सबसे अच्छा आपके पास वापस आ जाएगा। “

दुनिया में सबसे अच्छा संगीत वाद्ययंत्र से भी अच्छा  मानव की आवाज है। “

यह ‘शरीर’ ‘नश्वर’ है, हमें इस शरीर के माध्यम से केवल एक ही मौका मिला है, अपने आप को साबित करने के लिए

किसी ऐसे व्यक्ति की मदद करना जो बदले में आपको धन्यवाद देने में असमर्थ है, उच्चतम गुणवत्ता का है।

मोह एक बहुत ही आश्चर्यजनक जाल है, जो बाहर से बहुत सुंदर और अंदर से बेहद दर्दनाक है; इसमें फंसने वाला व्यक्ति पूरी तरह से उलझ जाता है

मनुष्य को हमेशा ईर्ष्या से दूर रहना चाहिए। क्योंकि यह अपने अंदर ‘मानव’ को जलाए रखता है और जिस मार्ग से भटकता है, वह पथ को नष्ट कर देता है।

अहंकार ‘मनुष्य की स्थिति या दिशा’ है, जिसमें वह अपने ‘मूल कर्तव्य’ से भटककर ‘विनाश’ की ओर चला जाता है।

जो दूसरों की मदद करते हैं वे एक तरह से भगवान की मदद करते हैं।

गीत किसी का दिल बहलाने में मदद करता है। गाने के बिना दिल को छूना मुश्किल है। “

जब अहंकार आता है, तो वह मनुष्य के अंदर वास  हो जाता है, जिससे वह अपना आत्मविश्वास और आत्म-ज्ञान खो देता है। “

क्षमा करना हर किसी के बस की बात नहीं है। क्योंकि यह तर्कसंगत लोगों के लिए काम करता है।

प्रबुद्ध होने के लिए; यह कोई घटना नहीं हो सकती। यहाँ जो भी है; वह अद्वैत है। यह कैसे संभव हो सकता है? यह स्पष्टता है।

संस्कार मानव आचरण की नींव है, संस्कार जितने गहरे हैं, व्यक्ति अपने कर्तव्य, धर्म, सत्य और न्याय के प्रति उतना ही अधिक जिद्दी होता  है।

सभी को अपनी-अपनी प्रगति समझनी चाहिए

जिसने खुद  पर गर्व किया गया है वह गिर गया ।

जिसके पास ईश्वर और आत्मा का सच्चा ज्ञान है, जो आलस्य को छोड़कर हमेशा उद्योगपतियों के प्रति सहिष्णु होता है,

 व्यक्ति, धर्म का एक नियमित भक्षक, जो किसी भी पदार्थ को धर्म से मुक्त नहीं कर सकता और अधर्म की ओर बढ़ सकता है, वह पंडित कहलाता है।

दुनिया को अपना सर्वश्रेष्ठ दें और सबसे अच्छा आपके पास वापस आ जाएगा।

मूल्य मूल्यवान तब  है जब उस मूल्य का मूल्य स्वयं के लिए मूल्यवान हो

आत्मा अपने स्वभाव में एक है, लेकिन इसका सार कई है।

वेद में सार वर्ण को पीने वाले ही जान सकते हैं कि जीवन का मूल बिंदु क्या है।

आत्मा परमात्मा का एक हिस्सा है, जिसे हम अपने कार्यों के लिए प्रोत्साहन देते हैं। तब आत्मा हमारी स्थिति निर्धारित करती है।

जो व्यक्ति हर चीज से संतुष्ट है वह इस दुनिया का सबसे खुशहाल व्यक्ति है।

एक मानवीय सांचे की नींव पवित्र होती है, एक व्यक्ति का  संस्कार जितना गहरा होगा। उतना ही मजबूत उसका कर्तव्य, धर्म, सत्य और न्याय होगा।

मनुष्य की आत्मा परमात्मा का एक हिस्सा है, जिसे हम अपनी कार्रवाई के लिए प्रेरणा देते हैं, और फिर आत्मा हमारी स्थिति निर्धारित करती है।

लालच वह अवगुण है जो हर दिन बढ़ता है। जब तक इंसान का पतन नहीं हो जाता।

मनुष्य को अपने नश्वर शरीर के बजाय ईश्वर से प्रेम करना चाहिए और सत्य और धर्म से प्रेम करना चाहिए।

अन्य पढ़े

  प्रेरक बॉलीवुड डायलॉग Motivational Bollywood Dialogues

इलोन मस्क के अनमोल विचार

कन्फ़्यूशियस के अनमोल विचार

माइकल फ़ेल्प्स के अनमोल विचार

लियो टॉल्स्टॉय के अनमोल वचन

अल्फ्रेड नोबेल के अनमोल वचन

अरस्तु पर अनमोल वचन

विंस्टन चर्चिल के अनमोल वचन

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!