बिल गेट्स का जीवन परिचय | Bill Gates Biography In Hindi

बिल गेट्स का जीवन परिचय

 

बिल गेट्स का जीवन परिचय Bill Gates Biography In Hindi

नाम Name बिल गेट्स

पुरा नाम Full Name विलियम हेनरी गेट्स

जन्म तारीख Date of Birth 28 अक्टूबर 1955

जन्म स्थान Place of Birth सिएटल, वाशिंगटन

नागरिकता Nationality अमेरिकी

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name विलियम गेट्स

माँ का नाम Mother’s Name मैरी मैक्सवेल गेट्स

पत्नी का नाम मेलिंडा

अन्य जानकारी Other Information

बिल गेट्स कौन है

बिल गेट्स का असली और पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स है। बिल गेट्स का जन्म 28 अक्टूबर 1955 को सिएटल, वाशिंगटन में हुआ था। उनके परिवार में उनके चार और सदस्य थे – उनके पिता विलियम एच गेट्स जो एक प्रसिद्ध वकील थे, उनकी माँ मैरी मैक्सवेल गेट्स जो पहले इंटरस्टेट बैंक सिस्टम और यूनाइटेड वे के निदेशक मंडल की सदस्य थीं और उनकी दो बहनें क्रिस्टी और लिब्बी है ,दुनिया की सर्वश्रेष्ठ Software Company “Microsoft” की नींव भी बिल गेट्स के द्वारा ही रखी गयी है

अन्य पढ़े आइंस्टीन का जीवन परिचय

बिल गेट्स का बचपन

बिल गेट्स का जीवन परिचय बिल गेट्स बचपन से ही कंप्यूटर विज्ञान तथा उसकी प्रोग्रामिंग भाषाओं में रूचि थी। उनकी प्रारंभिक शिक्षा लेकसाइड स्कूल में हुई। जब वह आठवीं कक्षा के छात्र थे तब उनके विद्यालय ने ऐएसआर – 33 दूरटंकण टर्मिनल तथा जनरल इलेक्ट्रिक (जी।ई।) कंप्यूटर पर एक कंप्यूटर प्रोग्राम खरीदा जिसमें गेट्स ने रूचि दिखाई। तत्पश्चात मात्र तेरह वर्ष की आयु में उन्होंने अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम लिखा जिसका नाम “टिक-टैक-टो” था। बिल गेट्स इस मशीन से बहुत अधिक प्रभावित थे तथा जानने को उत्सुक थे कि यह सॉफ्टवेयर कोड्स किस प्रकार कार्य करते हैं।

  माखनलाल चतुर्वेदी का जीवन परिचय Makhanlal Chaturvedi Ka Jivan Parichay

इसके पश्चात गेट्स डीईसी पीडीपी मिनी कंप्यूटर नामक सिस्टमों में दिलचस्पी दिखाते रहे, परन्तु उन्हें कंप्यूटर सेंटर कॉरपोरेशन द्वारा ऑपरेटिंग सिस्टम में हो रही खामियों के लिए 1 महीने तक प्रतिबंधित कर दिया गया। इसी समय के दौरान उन्होंने अपने मित्रों के साथ मिलकर सीसीसी के सॉफ्टवेयर में हो रही कमियों को दूर कर लोगों को प्रभावित किया तथा उसके पश्चात वह सीसीसी के कार्यालय में निरंतर जाकर विभिन्न प्रोग्रामों के लिए सोर्स कोड का अध्ययन करते रहे और यह सिलसिला 1970 तक चलता रहा। इसके पश्चात इन्फोर्मेशन साइंसेस आइएनसी। लेकसाइड के चार छात्रों को जिनमें बिल गेट्स भी शामिल थे, कंप्यूटर समय एवं रॉयल्टी उपलब्ध कराकर कोबोल (COBOL), पर एक पेरोल प्रोग्राम लिखने के लिए किराए पर रख लिया।

इसके पश्चात उन्हें रोकना नामुमकिन था। मात्र 17 वर्ष कि उम्र में उन्होंने अपने मित्र एलन के साथ मिलकर ट्राफ़- ओ- डाटा नामक एक उपक्रम बनाया जो इंटेल 8008 प्रोसेसर (Intel 8008 Processor) पर आधारित यातायात काउनटर (Traffic Counter) बनाने के लिए प्रयोग में लाया गया। 1973 में वह लेकसाइड स्कूल से पास हुए तथा उसके पश्चात बहु- प्रचलित हारवर्ड कॉलेज में उनका दाखिला हुआ।

परन्तु उन्होंने 1975 में छोड़ दिया जिसका कारण था उस समय उनके जीवन में दिशा का अभाव। उसके पश्चात उन्होंने Intel 8080 चिप बनाया तथा यह उस समय का व्यक्तिगत कंप्यूटर के अन्दर चलने वाला सबसे वहनयोग्य चिप था, जिसके पश्चात बिल गेट्स को यह एहसास हुआ कि समय द्वारा दिया गया यह सबसे उत्तम अवसर है जब उन्हें अपनी कंपनी का आरम्भ करना चाहिए।

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का उत्थान

MITS (माइक्रो इंस्ट्रुमेंटेशन एंड टेलीमेट्री सिस्टम्स) जिन्होंने एक माइक्रो कंप्यूटर बनाया था, गेट्स को एक प्रदर्शनी में शामिल होने के लिए सहमत हुए, और गेट्स ने उनके लिए अल्टेयर एमुलेटर बनाया, जिसे मिनी कंप्यूटर और बाद में इंटरप्रेटर में सक्रिय रूप से उपयोग किया गया था। इसके बाद बिल गेट्स और उनके साथी को MITS के अल्बुकर्क कार्यालय में काम करने की अनुमति दी गई। उन्होंने अपनी जोड़ी को माइक्रो-सॉफ्ट नाम दिया और अल्बुकर्क में अपना पहला कार्यालय स्थापित किया।

  लक्ष्मी सहगल का जीवन परिचय | Lakshmi Sahgal Biography in Hindi

26 नवंबर 1976 को, उन्होंने Microsoft का नाम एक वाणिज्यिक कंपनी के रूप में पंजीकृत किया। Microsoft Basic कंप्यूटर प्रेमियों के बीच सबसे लोकप्रिय बन गया। 1976 में माइक्रोसॉफ्ट एमआईटीएस और गेट्स से पूरी तरह स्वतंत्र हो गया और एलन ने मिलकर कंप्यूटर में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सॉफ्टवेयर का काम जारी रखा।

इसके बाद माइक्रोसॉफ्ट ने अल्बुकर्क में अपना कार्यालय बंद कर दिया और बेलेव्यू, वाशिंगटन में अपना नया कार्यालय खोला। Microsoft ने प्रगति की ओर बढ़ते हुए शुरुआती वर्षों में बहुत मेहनत और लगन से काम किया। गेट्स ने व्यावसायिक विवरणों पर भी ध्यान दिया, कोड लेखन किया, और स्वयं अन्य कर्मचारियों द्वारा लिखित और जारी किए गए कोड की प्रत्येक पंक्ति की समीक्षा की।

इसके बाद जानी-मानी कंपनी IBM ने Microsoft के साथ काम करने में दिलचस्पी दिखाई, उन्होंने Microsoft से अपने पर्सनल कंप्यूटर के लिए एक BASIC दुभाषिया बनाने का अनुरोध किया। कई कठिनाइयों पर काबू पाने के बाद, गेट्स ने एकीकृत लाइसेंसिंग एजेंट बनने के लिए सिएटल कंप्यूटर प्रोडक्ट्स के साथ एक समझौता किया और बाद में 86-डॉस का पूर्ण अधिकारी बन गया, और बाद में इसे आईबीएम को पीसी-डॉस के रूप में $80,000 के शुल्क पर बेच दिया। उपलब्ध कराया। इसके बाद माइक्रोसॉफ्ट को इंडस्ट्री में काफी नाम मिला।

1981 में, Microsoft को पुनर्गठित किया गया और बिल गेट्स को इसका अध्यक्ष और निदेशक मंडल का अध्यक्ष बनाया गया। जिसके बाद माइक्रोसॉफ्ट ने माइक्रोसॉफ्ट विंडोज का अपना पहला वर्जन पेश किया। 1975 से 2006 तक उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट में शानदार काम किया, इस दौरान उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के हित में कई अहम फैसले लिए।

बिल गेट्स का विवाह

1994 में बिल गेट्स ने फ्रांस में रहने वाली मेलिंडा से शादी की और 1996 में उन्होंने जेनिफर कैथरीन गेट्स को जन्म दिया। इसके बाद मेलिंडा और बिल गेट्स के दो और बच्चे हुए जिनका नाम रोरी जॉन गेट्स और फोएबे एडेल गेट्स है। फिलहाल बिल गेट्स अपने परिवार के साथ वाशिंगटन के मदीना में अपने खूबसूरत घर में रहते हैं, जिसकी कीमत 12.50 मिलियन डॉलर है

  सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी | Sarvapalli Radhakrishnan Biography In Hindi

परोपकारी कार्य

2000 में, इस फाउंडेशन ने गेट्स कैम्ब्रिज स्कॉलरशिप के लिए कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी को $210 मिलियन का दान दिया। वर्ष 2000 तक, बिल गेट्स ने केवल चैरिटी के लिए $29 बिलियन का दान दिया। लोगों की उनसे बढ़ती अपेक्षाओं को देखते हुए, 2006 में, उन्होंने घोषणा की कि वह अब माइक्रोसॉफ्ट में अंशकालिक और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन में पूर्णकालिक काम करेंगे। 2008 में, गेट्स माइक्रोसॉफ्ट के दिन-प्रतिदिन के संचालन प्रबंधन कार्य से पूरी तरह से विदा हो गए, लेकिन अध्यक्ष और सलाहकार के रूप में माइक्रोसॉफ्ट में बने रहे।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन

वर्ष 2000 में, उन्होंने अपनी पत्नी के साथ, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की नींव रखी, जो पारदर्शिता में काम करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा धर्मार्थ फाउंडेशन था। उनकी नींव उन समस्याओं के लिए धन दान करती थी जिन्हें सरकार द्वारा अनदेखा किया जाता था जैसे कृषि, कम प्रतिनिधित्व वाले अल्पसंख्यक समुदायों के लिए कॉलेज छात्रवृत्ति, एड्स जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए आदि।

अन्य पढ़े

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *