वी वी गिरी का जीवन परिचय | V V Giri Biography in Hindi

वी वी गिरी जीवन परिचय

वी वी गिरी का जीवन परिचय  V V Giri Biography  in Hindi

वराहगिरी वेंकट गिरी या वी वी गिरी भारत के  तीसरे उपराष्ट्रपति तथा चौथे राष्ट्रपति थे।  वी वी गिरी 24 अगस्त 1969 से 24 अगस्त 1984 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। वह स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में राष्ट्रपति पद के लिए चुने गए एकमात्र व्यक्ति थे।1 957-1967 के बीच, गिरि ने उत्तर प्रदेश (1957-1960), केरल (1960-1965) और कर्नाटक (1965-1967) के राज्यपाल के रूप में भी कार्य किया ।

वी वी गिरी परिचय

पुरा नाम Full Name वराहगिरी वेंकट गिरी

 जन्म तारीख Date of Birth  10 अगस्त 1894

जन्म स्थान Place of Birth ब्रह्मपुर, ओड़िशा

 मृत्यु Death   24 जून 1980 मद्रास, तमिलनाडु

 नागरिकता Nationality भारतीय 

राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

 पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name   वी.वी. जोगिआह पंतुलु

 माता  का नाम Mother’s Name सुभ्द्राम्मा

 पत्नी  का  नाम   सरस्वती बाई

 अन्य जानकारी Other Information

सम्मान Awards

  कल्पना चावला का जीवन परिचय | Kalpana Chawla Biography in Hindi

1975  में भारत रत्न 

वराहगिरी वेंकट गिरी या वी वी गिरी भारत के  तीसरे उपराष्ट्रपति तथा चौथे राष्ट्रपति थे।  वी वी गिरी 24 अगस्त 1969 से 24 अगस्त 1984 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। वह स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में राष्ट्रपति पद के लिए चुने गए एकमात्र व्यक्ति थे।1 957-1967 के बीच, गिरि ने उत्तर प्रदेश (1957-1960), केरल (1960-1965) और कर्नाटक (1965-1967) के राज्यपाल के रूप में भी कार्य किया ।

वी वी गिरी का जीवन परिचय जन्म, परिवार व शिक्षा V V Giri date of Birth Family Education

 वी वी गिरी का जन्म 10 अगस्त 1894 को  मद्रास प्रेसीडेंसी के ब्रह्मपुर, ओड़िशा में एक तेलुगु भाषी नियोगी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम श्री जोगिह पन्तुलु था। इनके पिता श्री वी वी जोगैया पंतुलु बरहामपुर में एक समृद्ध वकील और स्थानीय बार के नेता और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सक्रिय सदस्य थे। उनकी माता  सुभद्रम्मा असहयोग आन्दोलन और सविनय अवज्ञा आंदोलनों के दौरान बेरहामपुर में राष्ट्रीय आंदोलन में सक्रिय थी। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बरहामपुर में  की और बाद में गिरि आयरलैंड चले गए और उच्च अध्ययन के लिए डबलिन विश्वविद्यालय में शामिल हो गए।लेकिन 1916 में आयरिश राष्ट्रीय आंदोलन में शामिल होने के लिए आयरलैंड से निष्कासित कर दिया गया था।उनका विवाह सरस्वती बाई से हुआ था उनके 14 बच्चे थे। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, गिरि ने डबलिन से लंदन की यात्रा की और महात्मा गांधी से मिले। गांधी चाहते थे कि गिरि एक रेड क्रॉस स्वयंसेवक के रूप में शाही युद्ध के प्रयास में शामिल हों। गिरि ने शुरू में गांधी के अनुरोध को स्वीकार किया लेकिन बाद में अपने फैसले पर खेद प्रकट  किया।। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान गिरि को  1916 में वे भारत लौट आए। भारत लौटने पर, वह श्रमिक आंदोलन में  शामिल हो गए।गिरि ने पहली बार 1937 में राजनीति में प्रवेश किया जब वे मद्रास प्रेसीडेंसी में बनी कांग्रेस पार्टी की सरकार के लिए श्रम और उद्योग मंत्री बने। जब 1942 में कांग्रेस सरकारों ने इस्तीफा दे दिया, तो वह “भारत छोड़ो” आंदोलन के हिस्से के रूप में श्रमिक आंदोलन में लौट आए और अंग्रेजों द्वारा उन्हें गिरफ्तार  कर लिया गया।

  रामनाथ कोविन्द का जीवन परिचय | Ram nath Kovind in Hindi

भारत के राष्ट्रपति

उन्होंने 24 अगस्त 1969 को भारत के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। वे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव लड़ने वाले एकमात्र निर्दलीय उम्मीदवार थे। भारत के राष्ट्रपति के रूप में, गिरि ने दक्षिण एशिया , दक्षिण पूर्व एशिया, सोवियत संघ और अफ्रीका के 22 देशों की 14 राजकीय यात्राएँ कीं ।वी वी गिरि को एक ऐसा राष्ट्रपति माना जाता है जो पूरी तरह से प्रधानमंत्री के अधीन था ।

वी वी गिरी की मृत्यु  V V Giri Death

24 जून 1980 को मद्रास में दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। भारत सरकार द्वारा एक सप्ताह के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई।

वी वी गिरी की पुस्तकें  V V Giri Books

औद्योगिक संबंध

भारतीय उद्योग

सम्मान Awards

1975  में भारत रत्न प्रदान किया गया।

अन्य पढ़े

रामनाथ कोविन्द  का जीवन परिचय

सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन परिचय

डॉ जाकिर हुसैन  का जीवन परिचय

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *