गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी Rabindranath Tagore Ka Jivan Parichay In Hindi

rabindranath tagore

गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी Rabindranath Tagore Ka Jivan Parichay In Hindi

Ravindra nath tagore parichay Ka Jivan Parichay रवींद्रनाथ टैगोर एक भारतीय लेखक कवि साहित्यकार और एशिया के पहले नोबल पुरस्कार विजेता थे। उनके छंदों ने भारतीय और पश्चिमी संस्कृतियों के मिलान में महत्वपूर्ण योगदान दिया। रवींद्रनाथ टैगोर एक मात्र व्यक्ति है जिन्हे दो देशो के राष्ट्रगान लिखने का श्रेय जाता है।

Table of Contents

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म कलकत्ता, भारत में, ब्रिटिश शासन के तहत, 7 मई, 1861 को हुआ था।

  इनके पिता का नाम श्री देवेन्द्रन टैगोर एवं माता का नाम शारदा देवी थीं । रवींद्रनाथ टैगोर के पिता एक महान हिंदू दार्शनिक और “ब्रमदमजर” के संस्थापकों में से एक थे रवीन्द्रनाथ को घर के लोग उन्हें  प्यार से ‘ रवि ‘ कहकर बुलाते थे । 1883 में रवीन्द्रनाथ का विवाह मृणालिनी देवी से हुआ था।

टैगोर ने शुरू में बंगाली भाषा में छंद लिखे जिसमें उन्होंने अपने धार्मिक, राजनीतिक और सामाजिक मूल्यों  को उजागर किया।।

1901 में टैगोर ने शांतिनिकेतन में “द यूनिवर्सल वॉयस” नामक एक शैक्षणिक संस्थान की स्थापना की, जो हिंदू और पश्चिमी संस्कृति के तत्वों को मिलाता है।

रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी मुख्य तथ्य 

 नाम  Name रवींद्रनाथ टैगोर

पुरा नाम Full Name

जन्म तारीख Date of Birth 7 मई, 1861 

जन्म स्थान Place of Birth कलकत्ता, भारत

मृत्यु Death 7 अगस्त  1941

नागरिकता Nationality ब्रिटिश भारत

होमटाउन कोलकाता ब्रिटिश भारत

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name  देवेन्द्रन टैगोर

माता का नाम Mother’s Name  शारदा देवी

पत्नी  का नाम मृणालिनी देवी

बच्चे रेणुका टैगोर, शमींद्रनाथ टैगोर, मीरा टैगोर, रथिंद्रनाथ टैगोर और मधुरिलता टैगोर

अन्य जानकारी Other Information

सम्मान  Awards राष्ट्रगान के रचियता

साहित्य में नोबेल पुरस्कार (1913)

प्राम्भिक जीवन

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म जोरांको ठाकुररी डी कलकत्ता में हुआ था। उनके पिता गुरु देवेंद्रनाथ टैगोर थे और उनकी मां शारदसुंदी देवी थीं। रवींद्रनाथ अपने माता-पिता के चौदहवें पुत्र थे। एक बच्चे के रूप में, रवींद्रनाथ ने कुछ समय के लिए पूर्वी सेमिनरी, , बंगाल अकादमी और कलकत्ता में सेंट जावियर स्कूल में अध्ययन किया। हालांकि, स्कूली शिक्षा में उनके मन न लगने के कारण, उनकी शिक्षा घर पर आयोजित की गई थी। रवींद्रनाथ इंग्लैंड  अध्ययन करने गया। उन्हें पहली बार ब्राइटन के पब्लिक स्कूल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में कानून का अध्ययन करना शुरू किया। लेकिन साहित्य के आकर्षण के कारण, वे अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर सके।

रवींद्रनाथ टैगोर की शादी भवालानी से हो गई थी। अपने विवाहित जीवन में, भवालानी का नाम मृणिनिनी देवी रखा दिया गया था। रवींद्रनाथ और मृणिनिनी देवी के पांच पुत्र थे: मधुरिलिता रतुद्रनाथ, रेन्का मीरा और शामिंदरनाथ रेणुका और शामिंदरत की बहुत कम उम्र में मृत्यु हो गई। 18 9 1 में, अपने पिता के आदेश में, रवींद्रन नादिया (नादिया का हिस्सा अब बांग्लादेश के मकान मालिक और राजशाही और उड़ीसा के जलेवाद की जिमीदारी करना शुरू कर दिया।

  विनायक दामोदर सावरकर का जीवन परिचय | Vinayak Damodar Savarkar Biography in Hindi

रवींद्रनाथ और उनके परिवार उन्होंने शिलादाहा को छोड़ दिया और बिड़भुम जिले के बोलपुर शहर के शांतिनिकेतन आ गए। 1 9 05 में, बंगाल विभाजन विरोधी स्वदेशी आंदोलन में शामिल हो गए। 1 9 08 में, रवींद्रनाथ ने अपने सबसे बड़े बेटे राठिंदरत टैगोर को आधुनिक कृषि का अध्ययन करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में भेजा । 1 9 06 में, रवींद्रनाथ ने अपने निचले बेटे नागेंद्रनाथ गंगोपाडाय को कृषि का अध्ययन करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में भेजा।

रवींद्रनाथ टैगोर की शिक्षा

रवींद्रनाथ टैगोर के बड़े भाई द्विजेंद्रनाथ एक दार्शनिक और कवि थे। उनके दूसरे भाई सत्येंद्रनाथ टैगोर भारतीय सिविल सेवा में शामिल होने वाले पहले भारतीय थे। उनके दूसरे भाई ज्योतिंद्रनाथ एक संगीतकार और नाटककार थे। उनकी बहन स्वर्णकुमारी देवी एक लेखिका थीं।

  1868 में रवि को विद्यालय में प्रवेश दिलाया गया । उन्हें वहाँ का परिवेश अच्छा नहीं लगा वेद्यालय उन्हें कारागार जैसा लगता। नतीजा बालक रवि उस विद्यालय में नहीं टिक पाया । उन्हें दूसरे विद्यालय वेश दिलाया गया । रवि के बड़े भाई हेमेंद्र ने उन्हें पढ़ाने का दायित्व स्वयं ले लिया । उन्होंने कुश्ती नि.कारी यायाम, संगीत और विज्ञान में विशेष रुचि लेना प्रारंभ कर दिया । कविता और संगीत ये दोनों ही गुण रवि में स्वाभाविक रूप से विद्यमान थे ।

रवीन्द्र के माता – पिता ने जब देखा कि रवीन्द्र छोटी उम मे हीकविता रचने लगा है तो बहुत प्रसन्न हुए।उनके पिता देवेंद्रनाथ चाहते थे कि वे बैरिस्टर बनें, इसलिए उन्होंने 18 में रवींद्रनाथ को इंग्लैंड भेज दिया। उन्हें कानून की पढ़ाई के लिए यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में भर्ती कराया गया था, लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने कॉलेज छोड़ दिया और शेक्सपियर और कुछ अन्य साहित्यिक कृतियों का अध्ययन स्वयं करने लगे। वह बिना कानून की डिग्री के बंगाल लौट आए।

शांतिनिकेतन और विश्वभारती की स्थापना

 ” रवीन्द्र ने जब देखा के गरीब और अशिक्षित किसान अंधविश्वासों में जकड़े हुए हैं तो उन्होंने उनके लिए एक विद्गालय खोलने का निश्चय किया ।

 शांतिनिकेतन की स्थापना के पश्चात् कई दुखद घटनाओं का तांता लग गया । पहले रवीन्द्रनाथ की पत्नी, फिर पुत्री तथा पिता का निधन हो गया । कुछ दिनों बाद उनका छोटा बेटा भी चल बसा । रवीन्द्र ने अपने दुःख को हृदय की गहराइयों में दबाकर अपना सारा ध्यान विद्यालय चलाने में लगा दिया । उन्होंने विद्यालय में ऐसा शैक्षिक वातावरण बनाया जिसमें अध्यापक और विद्यार्थी एक साथ रहते और सभी -जुलकर कार्य करते । विद्यालय का मुख्य उद्देश्य था शिक्षा को जीवन का अभिन्न अंग बनाना शांतिनिकेतन बाद में विश्वभारती विश्वविद्यालय ‘ के नाम से विख्यात हुआ ।

  आचार्य दीपांकर श्री ज्ञान का जीवन परिचय Shriyagyna Biography in Hindi

रवीन्द्रनाथ टैगोर के लिखे राष्ट्रगीत

रवींद्रनाथ टैगोर को दो देशो के राष्ट्रगान लिखने का श्रेय जाता है।

” आमार सोनार बांगला ‘ बांग्लादेश का राष्ट्रीय गीत है । उन्हीं का गीत – ‘ जन गण मन अधिनाय जय हे ‘ हमारा राष्ट्रगान है । रवीन्द्र के गीतों को ‘ रवींद्र संगीत ‘ के नाम से जाना जाता है । इन गीतों भारतीय संगीत में विशिष्ट स्थान है ।

महात्मा गांधी और रवीन्द्रनाथ टैगोर

महात्मा गांधी रवींद्रनाथ टैगोर के व्यक्तित्व से काफी प्रभावित थे। रवींद्रनाथ टैगोर ने गाँधी जी को सर्वप्रथम ‘महात्मा’ कहा और गांधी जी  ने रवींद्रनाथ को “गुरुदेव” की उपाधि दी।

साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार

 गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर को उनकी कविता “गीतांजलि” के लिए 1913 में साहित्य के लिए ‘नोबल पुरस्कार’ मिला। वह यह सम्मान पाने वाले पहले एशियाई व्यक्ति थे। उन्होंने इस पुरस्कार में मिली पूरी राशि को शांतिनिकेतन में लगा दिया। 1915 में उन्हें अंग्रेजों ने ‘सर’ की उपाधि दी थी। जलियांवाला बाग हत्याकांड अप्रैल 1919 में हुआ था। इस बर्बर हत्याकांड के विरोध में, रवींद्रनाथ टैगोर ने ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रदत्त ‘सर’ की उपाधि को त्याग दिया था।

 रवीन्द्रनाथ टैगोर मातृभाषा के प्रबल पक्षधर थे । उनका कहना था-

” जिस प्रकार माँ के दूध पर पलने वाला बच्चा अधिक स्वस्थ और बलवान होता है, वैसे ही मातृभाषा पढ़ने से मन और मस्तिष्क अधिक मजबूत बनते हैं । “

 1921 में, उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय “विश्व-भारती” को बढ़ावा देने के लिए समर्पित करना शुरू कर दिया, जिसकी स्थापना उन्होंने उसी वर्ष शांतिनिकेतन के केंद्र में की थी।

महत्वपूर्ण पुरस्कार और सम्मान

1940 में, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने शांतिनिकेतन में आयोजित एक विशेष समारोह में उन्हें डॉक्टरेट ऑफ लिटरेचर से सम्मानित किया।
1913 में साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
 1915 में उन्हें   ब्रिटिश क्राउन द्वारा नाइट की उपाधि दी थी।

रवींद्रनाथ टैगोर की विदेश यात्राएं

उन्होंने 1920 से 1930  के दशक तक दुनिया भर में बड़े पैमाने पर यात्रा की। इस दौरान उन्होंने लैटिन अमेरिका, यूरोप और दक्षिण पूर्व एशिया की यात्रा की। जहां उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से कई प्रसिद्ध कवियों का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने अमेरिका और जापान जैसे देशों में व्याख्यान दिया है। इसके तुरंत बाद, टैगोर ने मेक्सिको, सिंगापुर और रोम जैसे स्थानों का दौरा किया जहां उन्होंने प्रसिद्ध राष्ट्रीय नेताओं और अल्बर्ट आइंस्टीन और मुसोलिनी जैसी महत्वपूर्ण हस्तियों से मुलाकात की।

रवींद्रनाथ टैगोर भारतीय चित्रकार

रवींद्रनाथ टैगोर ने साठ वर्ष की आयु में उन्होंने ड्राइंग और पेंटिंग करना शुरू कर दिया था। उनके चित्रों को पूरे यूरोप में आयोजित प्रदर्शनियों में प्रदर्शित किया गया था। रवींद्रनाथ टैगोर कई शैलियों से प्रभावित थे, जिनमें उत्तरी न्यू आयरलैंड के मलंगगन लोगों द्वारा स्क्रिमशॉ , पापुआ न्यू गिनी , उत्तरी अमेरिका के प्रशांत नॉर्थवेस्ट क्षेत्र से हैडा नक्काशी और जर्मन मैक्स पेचस्टीन द्वारा वुडकट्स शामिल हैं ।

रवींद्रनाथ टैगोर की शैली में सौंदर्यशास्त्र और रंग योजनाओं में कुछ ख़ासियतें थीं जो इसे अन्य कलाकारों से अलग करती थीं। नई दिल्ली में नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट में टैगोर की 102 कलाकृतियाँ हैं।

  एनी बेसेंट का जीवन परिचय | Annie Besant Biography in Hindi

रवींद्रनाथ टैगोर की कृतियाँ

 उपन्यास

करुणा

‘राजर्षि

नष्टनीड़

चोखेर बालि

गोरा
घरे बाइरे
चतुरंग
योगायोग
दुई बोन १
चार अध्याय

कविता

कवि काहिनी
बनफूल
भग्न हृदय

संध्या संगीत
प्रभात संगीत
छबि ओ गान

शैशव संगीत
भानुसिंह ठाकुरेर पदावली
कड़ि ओर कोमल

मानसी
सोनार तरी
विदाय अभिशाप

नदी
चित्रा
चैताली

कणिका
क्षणिका
कल्पना

काहिनी
कथा
नैवेद्य

स्मरण
शिशु
उत्सर्ग
खेया

गीतांजलि
गीतांजलि : सॉन्ग ऑफ़रिंग्स 1912 (गीतांजलि का अंग्रेजी गद्यानुवाद)
गीतिमाल्य
गीतालि

बलाका
पलातका
लिपिका
शिशु भोलानाथ

पूरबी
पथिक (‘पूरबी’ का उत्तरार्ध)
प्रवाहिनी
लेखन
महुया

वनवाणी 1931
परिशेष
पुनश्च
विचित्रिता
शेष सप्तक
वीथिका
पत्रपुट
श्यामली
खापछाड़ा
छड़ार छबि
प्रान्तिक

सेँजुति
प्रहासिनी
आकाश प्रदीप
नवजातक

सानाइ
रोगशय्याय
आरोग्य
जन्मदिने
छड़ा
शेषलेखा

लघु कथाये

भिखारिणी
घाटेर कथा घाट की कथा
राजपथेर कथा राजपथ की कथा

देना-पाउना दहेज
पोस्टमास्टर
गिन्नि
सुभा

ब्यबधान व्यवधान
ताराप्रसन्नेर कीर्ति (ताराप्रसन्न की कीर्ति)
बाबू की चरस
सम्पत्ति-समर्पण
दालिया
कंकाल

मुक्तिर उपाय (मुक्ति का उपाय)
त्याग
एकरात्रि (एक रात)
एकटा आषाढ़े गल्प

जीबन ओ मृत (जीवित और मृत)
स्वर्णमृग
रीतिमत नावेल
जय-पराजय

काबुलिवाला
महामाया
रामकानाइयेर निर्बुद्धिता (रामकन्हाई की मूर्खता)
ठाकुरदा (पितामह/दादा)

दानप्रतिदान
सम्पादक
मध्यबर्तनी (मध्यवर्तिनी)

असम्भब कथा
शास्ति (सजा)
एकटि क्षुद्र पुरातन गल्प
समाप्ति

समस्यापूरण
खाता (कॉपी)
अनधिकार प्रबेश

मेघ ओ रौद्र (धूप और छाया)
प्रायश्चित
बिचारक
निशीथे (आधी रात में)

आपद (आफत)
दिदि (दीदी)
मानभंजन
प्रतिहिंसा

अतिथि
दुराशा
पुत्रयज्ञ
डिटेक्टिव (जासूस)
अध्यापक

राजटीका
मनिहारा
दृष्टिदान

सदर ओ अन्दर (बाहर और भीतर)
उद्धार
फेल
शुभदृष्टि

उलुखरेर बिपद (तिनके का संकट)
प्रतिबेशिनी (पड़ोसिन)
दर्पहरन
माल्यदान
कर्मफल

गुप्तधन
माष्टर मोशाय (मास्टर साहब)
रासमनिर छेले (रासमणि का बेटा)
हालदार गोष्ठी (हालदार परिवार)
हैमन्ती

बोष्टमी (वैष्णवी)
स्त्रीर पत्र (पत्नी का पत्र)
भाइफोँटा
शेषेर रात्रि (अंतिम रात)

अपरिचिता
तपस्विनी
पात्र ओ पात्री
नामंजुर गल्प (विचित्र कहानी)

संस्कार
बलाय (बला)
चित्रकर
चोराइ धन (चोरी का धन)
रबिबार (रविवार)
शेष कथा
लेबोरेटरी
प्रगतिसंहार (कापुरुष)

शेष पुरस्कार
पणरक्षा (प्रतिज्ञा)
क्षुधितपाषाण
यज्ञेश्बरेर यज्ञ (यज्ञेश्वर का यज्ञ)

दुर्बुद्धि
छुटि (छुट्टी)

भ्रमण कथा

यूरोप प्रबासीर पत्र
राशियार चिठि
पारस्ये
जापान यात्री

आत्मकथा

जीबनस्मृति
चरित्रपूजा

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु

रवींद्रनाथ टैगोर अंतिम वर्ष लगातार बीमारी के लंबे दौर से जूझ रहे थे। 7 अगस्त सन् 1941 को रवीन्द्रनाथ ने अन्तिम साँस ली ।

रवींद्रनाथ टैगोर रोचक तथ्य

रवींद्रनाथ टैगोर के नाम पर रवींद्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय कोलकाता  विश्वविद्यालय रखा गया है । जोरासांको ठाकुरबारी इस विश्वविद्यालय का मुख्य परिसर है।

विश्व भारती विश्वविद्यालय , बीरभूम – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा स्थापित विश्वविद्यालय। शांतिनिकेतन इस विश्वविद्यालय का मुख्य परिसर है।

शिलैदाह कुथिबारी , कुश्तिया , बांग्लादेश – रवींद्रनाथ टैगोर की जमींदारी कुथिबारी।

रवींद्रनाथ टैगोर के सम्मान में बांग्लादेश में उनके नाम पर रवींद्र विश्वविद्यालय , शाहजादपुर , सिराजगंज विश्वविद्यालय रखा गया है।

रवींद्र पुरस्कार – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा नामित पश्चिम बंगाल का सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार।

रवींद्रनाथ टैगोर अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार – भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला एक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार ।

रवीन्द्रसदन – कोलकाता में एक ऐतिहासिक थिएटर जिसका नाम रवींद्रनाथ टैगोर और पश्चिम बंगाल सरकार के सूचना और संस्कृति विभाग के प्रधान कार्यालय के नाम पर रखा गया है।

रवींद्र ब्रिज – हावड़ा और कोलकाता को जोड़ने वाले पुल का नाम रवींद्रनाथ टैगोर के नाम पर रखा गया है।

रवीन्द्र सरोबार , कोलकाता – भारत में एक राष्ट्रीय झील का नाम रवीन्द्रनाथ टैगोर के नाम पर रखा गया है। यह कोलकाता की सबसे बड़ी झील है।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!