Visheshan Kise Kahate Hain | विशेषण किसे कहते हैं

visheshan kise kahate hain विशेषण किसे कहते हैं

Visheshan Kise Kahate Hain इस पोस्ट में आप पढ़ेंगे हिंदी व्याकरण की एक विशेष टॉपिक विशेषण किसे कहते हैं, विशेषण कितने प्रकार के होते हैं के बारे मे।

Visheshan Kise Kahate Hain विशेषण किसे कहते हैं

ऐसे शब्द जो संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता बताने वाले होते हैं ऐसे शब्दों का विशेषण कहते हैं।

 दूसरे शब्दों में कहा जाए ऐसे शब्द जो शब्द की विशेषता बताते हैं विशेषण कहलाते हैं और जिन शब्दों की विशेषता बताई जाती है वह विशेष्य कहलाता है।

उदाहरण-
मोटा लड़का हंस पड़ा।
दिए गए उदाहरण में मोटा शब्द विशेषण है लड़का शब्द विशेष्य है।

विशेषण के प्रकार

विशेषण मुख्यता चार प्रकार के होते हैं

सार्वनामिक विशेषण
गुणवाचक विशेषण
संख्यावाचक विशेषण
परिमाण बोधक विशेषण

सार्वनामिक विशेषण किसे कहते हैं (Sarvanamik Visheshan Kise Kahate Hain)

जो सर्वनाम विशेषण के रूप में प्रयुक्त होते हैं उन्हें सार्वनामिक विशेषण कहते हैं।

सार्वनामिक विशेषण वाक्य में सर्वनाम के रूप में प्रयुक्त होते हैं। ये शब्द वाक्य में किसी नाम, स्थान, समूह, वस्तु आदि को बताने के लिए प्रयुक्त होते हैं। इन विशेषणों का उपयोग करने से पहले सार्वनाम की विशेषताओं को ध्यान में रखना आवश्यक होता है। कुछ सार्वनामिक विशेषण इस प्रकार होते हैं:

  Vakya Kise Kahate Hain | वाक्य किसे कहते हैं

कोई – यह विशेषण वाक्य में बताने के लिए प्रयुक्त होता है कि नाम किसी व्यक्ति या वस्तु का नहीं है। जैसे- कोई आदमी यहां आया था।

कुछ – यह विशेषण वाक्य में बताने के लिए प्रयुक्त होता है कि नाम कुछ वस्तु या वस्तुओं का है। जैसे -मुझे कुछ पानी चाहिए।

जो – यह विशेषण वाक्य में बताने के लिए प्रयुक्त होता है कि नाम उस व्यक्ति या वस्तु का है जो पहले से ही जाना जाता है। जैसे – वह आदमी जो अमेरिका से आया था बहुत खुश दिख रहा है।

सर्वनाम और सार्वनामिक विशेषण में अंतर

सर्वनाम जो किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, समय या अन्य संज्ञा के स्थान पर उपयोग किया जाता है। उदाहरण – वह वहाँ खड़ा है यहां “वह” सर्वनाम है जो कि व्यक्ति के स्थान पर उपयोग किया गया है।

सार्वनामिक विशेषण- सर्वनाम के विशेषताओं के के लिए उपयोग किए जाने वाले शब्द होते हैं। ये विशेषण सर्वनाम की विशेषता को बताते हैं कि वह कैसा है। उदाहरण- नीली शर्ट में नीली एक सार्वनामिक विशेषण है जो बताता है कि शर्ट कैसी है।

इस प्रकार सर्वनाम जो किसी संज्ञा के स्थान पर उपयोग किया जाता है जबकि सार्वनामिक विशेषण सर्वनाम के साथ विशेषताओं के साथ जोड़े जाने वाले शब्द होते हैं।

गुणवाचक विशेषण किसे कहते हैं (Gunvachak Visheshan Kise Kahate Hain)

ऐसे शब्द जो संज्ञा और सर्वनाम के गुणधर्म स्वभाव को बताते हैं उन्हें गुणवाचक विशेषण कहते हैं।
दूसरे शब्दों में कहा जाए ऐसे शब्द जो संज्ञा अथवा सर्वनाम के गुणों की विशेषता बताते हैं उन्हें गुणवाचक विशेषण किसे कहते हैं।

  असंगति अलंकार Asangati Alankar

Read Also 

क्रिया किसे कहते हैं

समास किसे कहते हैं

गुणवाचक विशेषण के प्रकार

कालबोधक गुणवाचक विशेषण
स्थानबोधक गुणवाचक विशेषण
रंगबोधक गुणवाचक विशेषण
दशाबोधक गुणवाचक विशेषण
गुणबोधक गुणवाचक विशेषण
आकारबोधक गुणवाचक विशेषण

कालबोधक गुणवाचक विशेषण : वह जो समय अथवा काल के गुणों का बोध कराते हैं उन्हें कालबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं उदाहरण- नया, पुराना, ताजा , मौसमी, प्राचीन आदि।

स्थानबोधक गुणवाचक विशेषण : ऐसे विशेषण जो स्थान का बोध कराते हैं स्थानबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं। उदाहरण- विचले

रंगबोधक गुणवाचक विशेषण : ऐसे विशेषण जो रंग के गुणों का का बोध कराते हैं रंगबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं। उदाहरण- लाल, नीला, पीला, काला, हरा आदि।

दशाबोधक गुणवाचक विशेषण : ऐसे विशेषण जो दशा का का का बोध कराते हैं दशाबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं। उदाहरण- मोटा, पतला, युवा, वृद्ध आदि।

गुणबोधक गुणवाचक विशेषण: ऐसे विशेषण जो गुणों का बोध कराते हैं गुणबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं। उदाहरण- अच्छा ,भला ,बुरा, कपटी, झूठा ,सच्चा ,पापी आदि।

आकारबोधक गुणवाचक विशेषण: ऐसे विशेषण जो आकार का बोध कराते हैं आकारबोधक गुणवाचक विशेषण कहते हैं। उदाहरण- गोल, चकोर, तिकोना, लंबा, चौड़ा, नुकीला आदि।

संख्यावाचक विशेषण किसे कहते हैं (Sankhyavachak Visheshan Kise Kahate Hain)

वह विशेषण जो संज्ञा अथवा सर्वनाम की संख्या का बोध कराते हैं संख्यावाचक विशेषण कहलाते हैं।
वाक्य में संख्या की जानकारी देने वाले विशेषण होते हैं। इन्हें संख्यात्मक विशेषण भी कहा जाता है।

  भ्रांतिमान अलंकार Bhrantiman Alankar In Hindi

संख्यावाचक विशेषण के प्रकार

निश्चित संख्यावाचक विशेषण
अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण

निश्चित संख्यावाचक : विशेषण वह विशेषण होता है जो निश्चित संख्या को वर्णन करता है। उदाहरण के लिए- तीस लोग में शब्द तीस एक निश्चित संख्यावाचक विशेषण है जो संख्या 30 को वर्णन करता है। अन्य उदाहरण में पाँच अंगूर में, पाँच निश्चित संख्यावाचक विशेषण है जो संख्या 5 को वर्णन करता है।

अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण : उन विशेषणों को कहते हैं जो संख्याओं की संख्या अनिश्चित होती हैं । ये संख्याओं की अनंत संख्या को दर्शाते हैं। उदाहरण के लिए, कुछ एक अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है क्योंकि यह न किसी निश्चित संख्या की निर्देशिका देता है न ही किसी निश्चित सीमा तक की संख्या को दर्शाता है। इसी तरह, बहुत सारे, कुछ भी, अनंत, निरंतर आदि अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण होते हैं।

परिमाणबोधक विशेषण किसे कहते हैं (Parimanbodhak Visheshan Kise Kahate Hain)

परिमाणबोधक विशेषण एक विशेषण होता है जो संज्ञा अथवा सर्वनाम की परिमाण का बोध कराता है । इसका उपयोग अलग-अलग संख्याओं को संज्ञाओं से वर्णन करने के लिए किया जाता है। इन विशेषणों का उपयोग आकार, मात्रा, समय, दूरी और मापन के लिए किया जाता है।
अधिकतर विशेषण परिमाण बोधक और संख्या बोधक दोनों ही होते हैं यदि विशेषण एकवचन है तो वह परिमाण बोधक होता है यदि बहुवचन है तो वह संख्या बोधक होता है।

इनमें कुछ उदाहरण हैं 10 किलो ,5 कुंटल, बहुत, थोड़ा ,आदि।

Visheshan Kise Kahate Hain हम उम्मीद करते हैं की आपको हमारी पोस्ट विशेषण किसे कहते हैं, विशेषण कितने प्रकार के होते हैं के बारे मे आपको अवश्य समझ में आया होगा।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *