महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन परिचय

महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन परिचय

महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन परिचय

श्री वल्लभाचार्य एक महान दार्शनिक थे। जिनका जीवन काल  (1479 – 1531) तक था।  एक भक्ति दार्शनिक थे जिन्होंने पुष्टि संप्रदाय की स्थापना की और भारत में शुद्ध अद्वैत (शुद्ध अद्वैतवाद) के दर्शन के जनक थे। वल्लभ दक्षिण भारत के एक तेलुगु ब्राह्मण थे जिनका जन्म भारत के छत्तीसगढ़ राज्य में रायपुर के पास चंपारण में हुआ था। वह आंध्र प्रदेश, दक्षिण भारत से थे।कुछ लोगो के अनुसार उनका जन्म 1479 में पवित्र शहर वाराणसी में हुआ था जिसे बनारस भी कहा जाता है जब परिवार तीर्थ यात्रा पर था। श्री वल्लभाचार्य के पिता लक्ष्मण भट्ट थे और इलमारगारु माता थीं।वल्लभाचार्य वैष्णववाद के कृष्ण संप्रदाय के सबसे प्रतिष्ठित उपदेशक थे। वह पुष्टिमार्ग के थे ‘पुष्टि शब्द का अर्थ है ईश्वर की कृपा। वल्लभाचार्य ने विजयनगर के कृष्णदेव राय के दरबार में उन्होंने सार्वजनिक बहस में शैवों को पराजित किया था । मथुरा, वृंदावन और अन्य स्थानों का भ्रमण कर वे बनारस में बस गए। उन्होंने श्रीनाथजी की उपाधि से भगवान कृष्ण की पूजा की। उन्होंने भागवत टीका, सुबोदामी सहित कई रचनाओं की रचना की। उन्होंने ब्रह्मसूत्र और भगवद गीता पर एक टिप्पणी लिखी। सूरदास जी वल्लभाचार्य के शिष्यों में एक थे।

वल्लभाचार्य का जन्म

श्री वल्लभाचार्य का जन्म एक जंगल में हुआ था कुछ लोगो के अनुसार उनका जन्म 1479 में वाराणसी में परिवार तीर्थ यात्रा के दौरान हुआ था ।  कुछ लोगो के अनुसार उनका जन्म भारत के छत्तीसगढ़ राज्य में रायपुर के पास चंपारण में हुआ था। उनके पिता श्री लक्ष्मणभट्ट ने उन्हें शिक्षा के लिए विद्वान विद्वानों के पास भेजा। उन्होंने शिक्षा में अपना असाधारण प्रदर्शन किया उन्होंने आठ वर्ष की आयु में वेद, पुराण, स्मृति, तंत्र आदि सभी धार्मिक शास्त्रों सांख्य, योग, न्याय, मीमांसा, जैन धर्म, बौद्ध धर्म का अध्ययन पूरा किया।
दस वर्ष की आयु में उन्होंने श्री जगन्नाथपुरी के वाद-विवाद में सभी ऋषियों को पराजित कर दिया।

11 वर्ष की आयु में वल्लभाचार्य सरस्वती की उपाधि अर्जित की थी

अन्य पढ़े तुलसीदास का जीवन परिचय

वल्लभाचार्य का जीवन परिचय मुख्य तथ्य

नाम Name वल्लभाचार्य

उपनाम नाम Full Name 

जन्म तारीख Date of Birth 1479 ई

जन्म स्थान Place of Birth वाराणसी

मृत्यु Death 1531 ई

धर्म हिन्दू धर्म

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name लक्ष्मणभट्ट

माता का नाम Mother’s Name इलमारगारु

पत्नी का नाम महालक्ष्मी

संतान गोपीनाथजी और विट्ठलनाथी

अन्य जानकारी Other Information

प्रमुख रचनाएँ

भागवत टीका

सुबोदामी

विजयनगर में शास्त्रार्थ विजय

कृष्णदेवराय के दरबार में वैष्णवों और शैवों के बीच दार्शनिक प्रश्न पर बहस हुई जिसमे वल्लभाचार्य की विजय हुई थी।

वल्लभाचार्य ने नंगे पैर भारत के तीन तीर्थों का दर्शन किया। पुष्टिमार्ग साहित्य में भारत के इन तीन तीर्थों को पृथ्वी परिक्रमा के नाम से जाना जाता है।

वल्लभाचार्य की मृत्यु

बावन वर्ष की आयु में उन्होंने स्वयं को संसार से अलग कर लिया और ध्यान और श्रीकृष्ण की स्तुति के गीत गाने लगे।विक्रम संवत् 1587, आषाढ शुक्ल तृतीया (सन 1531) को उन्होंने इस लोक से जीवन लीला का अंत हुआ।

प्रमुख रचनाएँ

ब्रह्मसूत्र
जैमिनी सूत्र (अपूर्ण)
गायत्री पर भाष्य
पूर्वमीमांसा-भाष्य-कारिका
भागवत पुराण पर एक भाष्य ‘सुबोधिनी’ (अपूर्ण)
भागवत पुराण पर एक टीका ‘सुक्ष्मतिका’ (अपूर्ण)
भागवत दशमा-स्कंध अनुक्रमणिका
पत्रवलंबनम
शिक्षा-श्लोक:
तत्त्वार्थदीपनिबंध:
शास्त्रार्थ-प्रकरणम:
सर्वनिर्णय-प्रकरणम:
भगवार्थ-प्रकरणम:
सोडाशग्रंथ:
यमुनाष्टकम्
बालबोध
सिद्धांतमुक्तावली
पुष्टि-प्रवाह-मर्यादा-भेद:
सिद्धांत-रहस्य:
नवरत्नम
अंतःकरण-प्रबोध:
.भक्तिवर्धनी
जलाभड़ा
संन्यास-निर्नय
निरोधलक्षनम
सेवाफलम
स्तोत्र
मधुराष्टकमी
परिवर्द्धाष्टकम,
श्री कृष्णष्टकम,
श्री गिरिराजधार्याष्टम,
प्रेममृतम
श्री गोपीजनवल्लभष्टकम
श्री पुरुषोत्तम-नाम-सहस्रम् (भगवती से श्री कृष्ण के एक हजार नाम)

त्रिविधलीला-नामावली

पूछे जाने वाले प्रश्न

वल्लभाचार्य का जन्म कहां हुआ था ?

कुछ लोगो के अनुसार उनका जन्म 1479 में वाराणसी में परिवार तीर्थ यात्रा के दौरान हुआ था ।  कुछ लोगो के अनुसार उनका जन्म भारत के छत्तीसगढ़ राज्य में रायपुर के पास चंपारण में हुआ था। उनका जन्म उस समय हुआ जब पिता एक लाख ब्राम्हणो को भोज करा रहे थे।

अन्य पढ़े

सूरदास का जीवन परिचय

मीराबाई का जीवन परिचय

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Alert: Content is protected !!