पृथ्वी का वायुमण्डल (Atmosphere in Hindi )

Atmosphere in Hindi

पृथ्वी का वायुमण्डल (Atmosphere in Hindi )

Atmosphere in Hindi वायुमण्डल पृथ्वी के चारों ओर फैली हुई गैसों की परत है । जो मुख्य रूप से नाइट्रोजन (78%) और ऑक्सीजन (21%) से मिलकर बना है। इसमें कार्बन डाइऑक्साइड और आर्गन जैसी अन्य गैसों बहुत अल्प मात्रा में होती है। वातावरण कई महत्वपूर्ण कार्य करता है इसके कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाया है इसके महत्वपूर्ण कार्य सांस लेने के लिए हवा प्रदान करना , तापमान को नियंत्रित करना, हानिकारक सौर विकिरण से पृथ्वी की रक्षा करना और गर्मी और नमी को रोककर मौसम प्रणाली को बनाए रखना है।

वायुमण्डल को कई परतों में विभाजित किया गया है- क्षोभमंडल, समताप मंडल, मेसोस्फीयर, थर्मोस्फीयर और एक्सोस्फीयर ।

पृथ्वी के वायुमण्डल में पाई जाने वाली गैसें (Composition of atmosphere in Hindi)

वायुमण्डल में पाई जाने वाली प्राथमिक गैसें नाइट्रोजन (N2), ऑक्सीजन (O2), आर्गन (Ar), कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) हैं और अन्य गैसों जैसे नियॉन, मीथेन, क्रिप्टन और जल वाष्प जो बहुत अति अल्प मात्रा में पाई जाती हैं।

नाइट्रोजन

पृथ्वी के वायुमण्डल में नाइट्रोजन सबसे प्रचुर मात्रा में पाई जाने वाली गैस है यह हमारे वायुमंडल का का लगभग 78% हिस्सा बनाती हैं। नाइट्रोजन एक गैर-प्रतिक्रियाशील गैस है, जिसका अर्थ है कि यह अन्य तत्वों के साथ आसानी से संयोजित नहीं होती है, जिससे यह वायुमण्डल का एक प्रमुख घटक बन जाता है। नाइट्रोजन कई पर्यावरणीय प्रक्रियाओं जैसे नाइट्रोजन चक्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है यह मिट्टी में पोषक तत्वों के संतुलन को बनाए रखने में मदद करती है। यह हमारे वायुमंडल में 128 किलोमीटर ऊंचाई तक पाई जाती है। इसके कारण ही वायुदाब, प्रकाश का परावर्तन और पवनों की शक्ति का आभास होता है।

  Bhugol Kise Kahate Hain | भूगोल किसे कहते हैं भूगोल की परिभाषा

ऑक्सीजन

ऑक्सीजन पृथ्वी के वायुमण्डल में दूसरी सबसे प्रचुर मात्रा में पाई जाने वाली गैस है यह हमारे वायुमंडल का लगभग 21% हिस्सा बनाती हैं। यह जीवन के लिए अति आवश्यक है क्योंकि सभी जीवित प्राणियों को जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। यह वायुमंडल का एक महत्वपूर्ण घटक है जो तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह हमारे वायुमंडल में 64 किलोमीटर तक पाई जाती है परंतु 16 किलोमीटर बाद इसकी मात्रा बहुत अल्प रह जाती है।

कॉर्बन डाईऑक्साइड

कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) एक गैस है जो पृथ्वी के वायुमंडल का एक छोटा सा हिस्सा लगभग (0.04%) बनाती है। इसकी अपेक्षाकृत कम सांद्रता के बावजूद, यह तापमान और जलवायु को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। CO2 ग्रीनहाउस गैस के रूप में कार्य करती है यह वातावरण में गर्मी को बनाए रखती है है और ग्लोबल वार्मिंग में योगदान करती है। मानव गतिविधियों, जैसे कि जीवाश्म ईंधन को जलाना, वनों की कटाई ने वायुमंडलीय CO2 के स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि की है जो पृथ्वी की जलवायु परिवर्तन का कारण बन रही है। यह वायुमंडल में लगभग 32 किलोमीटर ऊंचाई तक पाई जाती है।

ओजोन

 वायुमंडल में बहुत कम मात्रा में पाई जाने वाली गैस है ओजोन परत पृथ्वी की सतह से लगभग 10 से 50 किलोमीटर ऊपर स्थित है और अधिकांश यूवी विकिरण को पृथ्वी तक पहुँचने से रोकने में मदद करती है ओजोन फायदेमंद है और एक सुरक्षात्मक परत के रूप में कार्य करता है जो पृथ्वी को सूर्य से हानिकारक पराबैंगनी (UV) विकिरण से बचाता है।

  पृथ्वी की आयु कितनी है Prithvi ki Aayu Kitni hai

पृथ्वी के वायुमण्डल की परतें layers of atmosphere in hindi

पृथ्वी के वायुमंडल में कई अलग-अलग परतें शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक की अपनी विशेषताओं और गुण हैं। पृथ्वी के वायुमंडल की मुख्य परतें निम्नलिखित हैं

क्षोभमंडल (Troposphere) :

क्षोभमंडल पृथ्वी के वायुमंडल की सबसे निचली परत है पृथ्वी की सतह से लगभग 7 से 20 किलोमीटर तक फैली हुई है। इस परत में पृथ्वी के कुल वायु द्रव्यमान का लगभग 75% शामिल है और यहीं पर हमारे सभी मौसम होते हैं। पृथ्वी के गर्मी को रोकने वाली ग्रीनहाउस गैसों की उपस्थिति के कारण क्षोभमंडल में तापमान बढ़ती ऊंचाई के साथ घटता जाता है।

समताप मंडल (Stratosphere):

समताप मंडल क्षोभमंडल के ऊपर की परत है, जो पृथ्वी की सतह से लगभग 20 से 50 किलोमीटर ऊपर तक फैली हुई है। इस परत में ओजोन परत होती है जो सूर्य से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी (UV) विकिरण से पृथ्वी की रक्षा करती है। ओजोन की उपस्थिति के कारण समताप मंडल में तापमान ऊंचाई के साथ बढ़ता है, जो यूवी विकिरण को अवशोषित करता है और गर्मी बनाए करता है।

मेसोस्फीयर:

मेसोस्फीयर समताप मंडल के ऊपर की परत है, जो पृथ्वी की सतह से लगभग 50 से 80 किलोमीटर ऊपर तक फैली हुई है। यह परत कम तापमान की विशेषता है, बढ़ती ऊंचाई के साथ तापमान घटता जाता है। मेसोस्फीयर के कारण उल्काएं उनके उच्च गति द्वारा उत्पन्न घर्षण के कारण पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करने पर जलती हैं।

  About Earth in Hindi पृथ्वी के बारे में जानकारी और रोचक तथ्य

थर्मोस्फीयर: थर्मोस्फीयर मेसोस्फीयर के ऊपर की परत है जो पृथ्वी की सतह से लगभग 80 से 600 किलोमीटर ऊपर तक फैली हुई है। इस परत की विशेषता अत्यधिक उच्च तापमान है, जो सौर विकिरण से उत्तेजित आयनित कणों की उपस्थिति के कारण हजारों डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। थर्मोस्फीयर भी अरोराओं का घर है, जो पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के साथ आवेशित कणों की परस्पर क्रिया के कारण होते हैं।

एक्सोस्फीयर (Exosphere) :

एक्सोस्फीयर पृथ्वी के वायुमंडल की सबसे बाहरी परत है जो पृथ्वी की सतह से लगभग 600 किलोमीटर ऊपर तक फैली हुई है जहाँ यह धीरे-धीरे इंटरप्लेनेटरी स्पेस में विलीन हो जाती है। यह परत अत्यंत पतली होती है और इसमें बहुत कम कण होते हैं जिससे इसका अध्ययन करना कठिन हो जाता है।

पृथ्वी के वायुमंडल की प्रत्येक परत ग्रह की जलवायु को विनियमित करने और पृथ्वी पर जीवन की रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उदाहरण के लिए, समताप मंडल में ओजोन परत ग्रह को हानिकारक यूवी विकिरण से बचाती है जबकि क्षोभमंडल सतह के पास गर्मी को रोककर ग्रह के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है। मेसोस्फीयर पृथ्वी को आने वाले उल्काओं से बचाता है, और थर्मोस्फीयर ऑरोरा का घर है, जो शानदार प्रकाश प्रदर्शन होते हैं जो तब होते हैं जब सूर्य से आवेशित कण पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के साथ परस्पर क्रिया करते हैं।

निष्कर्ष पृथ्वी का वातावरण Atmosphere in Hindi एक जटिल और गतिशील प्रणाली है जिसमें कई अलग-अलग परतें शामिल हैं जिनमें से प्रत्येक के अपने अद्वितीय गुण और विशेषताएं हैं। पृथ्वी का वातावरण समझने के लिए हमें सौरमंडल पृथ्वी कैसे बनी आदि समझना भी आवश्यक है।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!