एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय ,अनमोल विचार ,तथ्य | Abdul Kalam Biography in Hindi,Quotes,Fact

 

एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय apj abdul kalam biography in hindi

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम अवुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। इनके पिता का नाम जैनुलअबिदीन तथा इनकी माता का नाम अशिअम्मा था।अब्दुल कलाम भारतीय वैज्ञानिक और राजनीतिज्ञ थे जिन्हे भारत के मिसाइल और परमाणु हथियार कार्यक्रमों के विकास में अग्रणी भूमिका निभाई वह भारत के 11 वें राष्ट्रपति बने । वह 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति पद पर रहे। भारत में परमाणु शक्ति में उनकी भागीदारी के लिए, उन्हें “भारत के मिसाइल मैन” कहा जाता है । अब्दुल कलाम मुस्लिम धर्म से थे। उनके पिता नाव चलाते थे । डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने आजीवन शादी नहीं की।

एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय सामान्य जानकारी (apj abdul kalam biography in hindi )

 नाम  Name   अब्दुल कलाम

पुरा नाम Full Name डॉक्टर अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम

अन्य नाम ए. पी.जे अब्दुल कलाम

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

जन्म तारीख Date of Birth  15 अक्टूबर, 1931

जन्म स्थान Place of Birthकधनुषकोडी गांव, रामेश्वरम, तमिलनाडु

मृत्यु Death 27 जुलाई 2015

नागरिकता Nationality भारतीय

Home Town रामेश्वरम, तमिलनाडु

नागरिकता Nationality भारतीय

पारिवारिक जानकारी Family Information

पिता का नाम Father’s Name जैनुलाब्दीन

माँ का नाम Mother’s Name अशिअम्मा

भाई बहन Siblings

अन्य जानकारी Other Information

प्रसिद्धि  भारतीय मिसाइल कार्यक्रम के जनक

सम्मान  Awards पद्मभूषण (1981),

पद्म विभूषण (1990)
भारत रत्न (1997

प्रेरणा स्त्रोत Inspiration

 बचपन और शिक्षा

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन बहुत ही गरीबी में गुजरा । परिवार का खर्चा चलाने के लिए कलाम को अपने शुरुआती वर्षों के दौरान समाचार पत्रों को बेचना पड़ा। क्योंकि ये गरीब परिवार से थे और ये बचपन से ही पढ़ाई के साथ-साथ काम भी करते थे। उन्होंने रामेश्वरम, रामनाथपुरम के स्च्वात्र्ज मैट्रिकुलेशन स्कूल से अपनी प्राथमिक शिक्षा ग्रहण की।वह अपने स्कूल के दौरान एक औसत छात्र था, लेकिन सीखने की तीव्र इच्छा थी और वह बहुत ही लग्न शील थे वह गणित से बहुत ही लगाव था । अब्दुल कलाम में बचपन से ही कुछ नया सीखने की जिज्ञासा दृढ़ थी। वो पढ़ाई भी करते तो पूरी लग्न और जिज्ञासा से किया करते थे चाहेे उनके पास कैसा भी समय हो।हाईस्कूल से अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद, वह तिरुचिरापल्ली चले गए और 1954 में भौतिकी से स्नातक किया

काॅलेज और करियर

1954 में ‘सेंट जोसेफ कॉलेज, तिरुचिरापल्ली’ से स्नातक की उपाधि प्राप्त की।अब्दुल कलाम को भारतीय वायु सेना में शामिल होने की बहुत इच्छा थी लेकिन उन्हें सिर्फ एक स्थान के लिए नहीं चुना जा सका। वह एक लड़ाकू पायलट बनना चाहते थे, लेकिन उनका सपना पूरा नहीं हो सका क्योंकि यहां भारतीय वायुसेना में केवल आठ स्थान उपलब्ध थे और उन्होंने नौवां स्थान प्राप्त किया।1955 में मद्रास की ओर प्रस्थान किया। एयरोस्पेस इंजीनियरिंग करने के लिए उन्होंने मद्रास में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिला लिया वहां जाने के बाद उन्होंने अंतरिक्ष विज्ञान की शिक्षा ग्रहण की। क्योंकि उनकी रूचि भौतिक विज्ञान में ज्यादा थी। उनके शिक्षा का ये दौर करीब 1958 से 1960 तक चलता रहा।

करियर

वह देश के सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (SLV-III) के प्रोजेक्ट हेड बने ।
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम  के नेतृत्व में एसएलवी-III ने ‘ रोहिणी ‘ उपग्रह को सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा के पास तैनात किया
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने कई सफल मिसाइलों को अग्नि और पृथ्वी जैसी बनान का कार्यक्रम की योजना बनाई, जिससे उन्हें “मिसाइल मैन” के नाम से से जाने जाना लगा ।
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने 1980 में ‘पृथ्वी मिसाइल’ के विकास की नींव रखी। वह इससे जुड़े भी थे।
1982 में निदेशक के रूप में डीआरडीओ में शामिल हुए
वह तक 1992 से 1997 भारत के रक्षा मंत्री के वरिष्ठ वैज्ञानिक सलाहकार बने।
11-13 मई 1998 का दिन में, उन्होंने भारत द्वारा-पोखरण- II ’परमाणु परीक्षण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मिशन को ऑपरेशन शक्ति नाम दिया गया था।

उपलब्धियां

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम मई 1998 में हुए भारत के ‘पोरखरण परमाणु परीक्षण में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति थे। इन परमाणु परीक्षणों की सफलता के कारण अब्दुल कलाम राष्ट्रीय नायक बन गए और उनकी लोकप्रियता बढ़ गई।

अब्दुल कलाम तकनीकी विकास, कृषि और परमाणु ऊर्जा में तकनीकी दूरदर्शी के रूप में 2020 तक भारत को एक विकसित देश बनाने के लिए कई प्रस्ताव प्रदान किए हैं।

पद ग्रहण करने से पहले वे भारत रत्न प्राप्त करने वाले भारत के तीसरे राष्ट्रपति भी थे।

उनके काम करने के तरीके और आम लोगों, विशेष रूप से युवा लोगों के साथ बातचीत के कारण उन्हें ‘द पीपल्स प्रेसिडेंट’ के रूप में जाना जाता था। डॉ. कलाम के अनुसार, ‘ऑफिस ऑफ प्रॉफिट बिल’ पर हस्ताक्षर करना उनके राष्ट्रपति पद के दौरान सबसे कठिन विकल्प था।

2002 में, सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) द्वारा कलाम को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुना गया, और उन्हें राष्ट्रपति चुना गया। वह 25 जुलाई, 2002 को भारत के 11 वें राष्ट्रपति बने और 25 जुलाई, 2007 तक इस पद पर रहे।पद ग्रहण करने से पहले वे भारत रत्न प्राप्त करने वाले भारत के तीसरे राष्ट्रपति भी थे।
2007 में, उन्होंने फिर से राष्ट्रपति चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया और 25 जुलाई 2007 को राष्ट्रपति के रूप में पद छोड़ दिया।

सम्मान

पद्मभूषण (1981),
पद्म विभूषण (1990)
भारत रत्न (1997)
1997राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी (1997)

अब्दुल कलाम की आत्मकथा Autobiography of Abdul Kalam

विंग्स ऑफ फायर (1999)

साइंटिस्ट टू प्रेसिडेंट

माय जर्नी (मेरी जीवनयात्रा)

अन्य रचनाये

इग्नाइटेड माइंडस:

इंडिया- माय-ड्रीम

एनविजनिंग अन एमपावर्ड नेशन: टेक्नालजी फार सोसायटल ट्रांसफारमेशन

प्रदान की गई उपाधिया

डॉक्टर ऑफ़ साइन्स एडिनबर्ग विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम

डॉक्टर ऑफ़ लॉज़ (मानद उपाधि) साइमन फ़्रेज़र विश्वविद्यालय

डॉक्टर ऑफ इन्जीनियरिंग यूनिवर्सिटी ऑफ़ वाटरलू[

मानद डॉक्टरेट ऑकलैंड विश्वविद्यालय

डॉक्टर ऑफ इन्जीनियरिंग नानयांग टेक्नोलॉजिकल विश्वविद्यालय, सिंगापुर[

डॉक्टर ऑफ साइन्स अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़

डॉक्टर ऑफ साइन्स एण्ड टेक्नोलॉजी कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय

डॉक्टर ऑफ साइन्स वूल्वरहैंप्टन विश्वविद्यालय, यूनाईटेड किंगडम

विशिष्ट शोधार्थी इंस्टीट्यूट ऑफ़ डायरेक्टर्स भारत

भारत सरकार द्वारा प्रदान की गई उपाधिया

पद्मभूषण (1981),
पद्म विभूषण (1990)
भारत रत्न (1997)

अन्य उपलब्धियां

स्विट्ज़रलैंड की सरकार ने कलाम के स्विट्ज़रलैंड आगमन के उपलक्ष्य में 26 मई को विज्ञान दिवस घोषित किया
कलाम के 79 वें जन्मदिन को संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व विद्यार्थी दिवस के रूप में मनाया गया था

निधन

अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में  व्याख्यान दे रहे थे जब उन्हें जोरदार कार्डियक अरेस्ट  हुआ कलाम की 27 जुलाई 2015 में 84 साल की उम्र में मृत्यु हो गए

महत्वपूर्ण तथ्य

 वह 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति पद पर रहे।। वे भारत के पहले राष्ट्रपति थे जो कुंवारे और शाकाहारी थे।

अब्दुल कलाम को  देश-विदेश के 48 विश्वविद्यालयों और संस्थानों से डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्राप्त की।

वह अग्नि और पृथ्वी मिसाइलों के विकास और संचालन के लिए जिम्मेदार थे, यही वजह है कि उन्हें ‘मिसाइल मैन’ कहा जाता है।
सात साल (1992-1999) तक कलाम प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार और डीआरडीओ के सचिव रहे

एपीजे अब्दुल कलाम गरीबी में पले-बढ़े और अपने पिता की अल्प आय में योगदान करने के लिए वह समाचार पत्रों का वितरण भी करते थे ।
वे महान भारतीय वैज्ञानिक डॉ. विक्रम साराभाई के शिष्य थे जिन्होंने उनका मार्गदर्शन किया और उन्हें बहुमूल्य सलाह दी।
इसरो में असफल परीक्षणों के बाद उन्होंने हमेशा प्रेस का सामना किया और अपनी गलतियों के लिए जिम्मेदारी स्वीकार की लेकिन संगठन में प्राप्त किसी भी बड़ी सफलता के लिए क्रेडिट का दावा नहीं किया।
वह राष्ट्रपति बनने वाले पहले कुंवारे व्यक्ति थे।
अब्दुल कलाम भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे जिन्हें राष्ट्रपति पद के लिए चुने जाने से पहले भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
वह अपनी लिखावट में व्यक्तिगत संदेशों के साथ अपना धन्यवाद कार्ड लिखने के लिए जाने जाते थे।
एपीजे अब्दुल कलाम की साहित्य में गहरी रुचि थी।
एपीजे अब्दुल कलाम की मृत्यु पर भारत सरकार ने सम्मान में सात दिनों के राजकीय शोक की घोषणा की थी ।

एपीजे अब्दुल कलाम के अंतिम संस्कार में प्रधान मंत्री सहित 350,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया था।

एपीजे अब्दुल कलाम के अनमोल विचार  apj abdul kalam quotes in hindi

अगर सूरज की तरह चमकना है तो पहले सूरज की तरह जलो
छोटा लक्ष्य एक अपराध है
उत्कृष्टता एक सतत प्रक्रिया है
अपने सपने सच होने से पहले आपको सपने देखने होंगे
देश का सबसे अच्छा दिमाग कक्षा की आखिरी बेंच में पाया जा सकता है
सपने वो नहीं होते जो आप नींद में देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते
अपनी पहली जीत के बाद आराम न करें क्योंकि अगर आप दूसरी में असफल हो जाते हैं, तो लोग  यह कहने के लिए इंतजार कर रहे हैं कि आपकी पहली जीत सिर्फ किस्मत थी
आइए हम अपने आज का बलिदान दें ताकि हमारे बच्चों का कल बेहतर हो सके
अगर मेरी सफल होने की परिभाषा काफी मजबूत है तो असफलता मुझसे आगे नहीं बढ़ेगी
शीर्ष पर चढ़ने के लिए ताकत की आवश्यकता होती है, चाहे वह माउंट एवरेस्ट की चोटी पर हो या आपके करियर के शीर्ष पर।
आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते, लेकिन आप अपनी आदतें बदल सकते हैं, और निश्चित रूप से आपकी आदतें आपका भविष्य बदल देंगी।
LIFE और TIME दुनिया के सबसे अच्छे शिक्षक हैं। जीवन हमें समय का सदुपयोग करना सिखाता है और समय हमें जीवन की कीमत सिखाता है
यदि आप असफल होते हैं, तो कभी हार न मानें क्योंकि FAIL का अर्थ है first attempt at learning
हम सभी में समान प्रतिभा नहीं होती है। लेकिन, हम सभी के पास अपनी प्रतिभा को विकसित करने का समान अवसर है
किसी को हराना बहुत आसान है, लेकिन किसी को जीतना बहुत मुश्किल
Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Alert: Content is protected !!