चाणक्य नीति की 10 बातें | chankya niti 10 quotes in Hindi

चाणक्य नीति की 10 बातें
चाणक्य नीति की 10 बातें

चाणक्य नीति की 10 बातें chankya Niti 10 quotes in Hindi

चाणक्य का जीवन परिचय

चाणक्य नीति की 10 बातें

ज्ञान की बाते सुनना और भूल जाना

प्राणी जब कहीं ज्ञान की बातें सुनता है, या फिर किसी को मरते हुए देखता है, तो उसके मन में वैराग उत्पन्न होता है, यह वैराग बस थोड़े समय के लिए ही रहता है, उस समय मनुष्य की हालत यह होती है कि वह भगवान को याद करते हुए यह कहता है कि यह संसार तो केवल एक माया जाल है, इसमें बुरे कर्म नहीं करने चाहिए ।

” किन्तु ” कुछ समय के पश्चात ही जब वह माया जाल में फंस जाता है तो सब कुछ भूल जाता है ।
ऐसा नहीं होना चाहिए, मनुष्य को, जीवन, मृत्यु, ज्ञान को नहीं भूलना चाहिए, जीवन तो एक धूप, छांव का खेल है । इस खेल में वुराई से जितना दूर रहें, उतना ही अच्छा है ।

praanee jab kaheen gyaan kee baaten sunata hai, ya phir kisee ko marate hue dekhata hai, to usake man mein vairaag utpann hota hai, yah vairaag bas thode samay ke lie hee rahata hai, us samay manushy kee haalat yah hotee hai ki vah bhagavaan ko yaad karate hue yah kahata hai ki yah sansaar to keval ek maaya jaal hai, isamen bure karm nahin karane chaahie . ” kintu ” kuchh samay ke pashchaat hee jab vah maaya jaal mein phans jaata hai to sab kuchh bhool jaata hai . aisa nahin hona chaahie, manushy ko, jeevan, mrtyu, gyaan ko nahin bhoolana chaahie, jeevan to ek dhoop, chhaanv ka khel hai . is khel mein vuraee se jitana door rahen, utana hee achchha hai

चाणक्य नीति की ज्ञान की बातें

कुछ लोग, केवल एक ही काम के द्वार से संसार को अपने बस  में कर लेना चाहते हैं, ऐसे लोग जीवन मार्ग से भटके हुए समझे जाते हैं, ऐसे लोगों को भटकने से बचाने के लिए उन्हें यह समझाना चाहिए । “

पांच ज्ञानेन्द्रियां ” आंख, कान, नाक, जुवान, त्वबा, के साथ ही पांच कमेन्द्रियां, हाथ, पांव, मुह, लिंग, गुदा – इन पर संयम रखना चाहिए ।
जिसने, रूप, रस, अभिमान स्पर्श पर विजय पा ली वही महान है, इस कार्य से वह सारे संसार को अपने बस में कर सकता है ।

चाणक्य नीति सुविचार

kuchh log, keval ek hee kaam ke dvaar se sansaar ko apane bas mein kar lena chaahate hain, aise log jeevan maarg se bhatake hue samajhe jaate hain, aise logon ko bhatakane se bachaane ke lie unhen yah samajhaana chaahie . ” paanch gyaanendriyaan ” aankh, kaan, naak, juvaan, tvaba, ke saath hee paanch kamendriyaan, haath, paanv, muh, ling, guda – in par sanyam rakhana chaahie . jisane, roop, ras, abhimaan sparsh par vijay pa lee vahee mahaan hai, is kaary se vah saare sansaar ko apane bas mein kar sakata hai

महान पुरुष के गुण

धर्म के कामो में सबसे आगे रहना ।
मीठे बोल बोलना ।
दीन पुण्य करने का कर्तव्य मसझना ।
ब्राहामों का आदर सत्कार करना ।
नम्रता मनीरता, शुद्ध विचारों का रखना ।
धर आये मेहमान की सेवा, शिव की कामना ।
यह गुण, एक अच्छे महान पुरुष की निशानी होती है

dharm ke kaamo mein sabase aage rahana . ” ” meethe bol bolana . ” ” deen puny karane ka kartavy masajhana . ” braahaamon ka aadar satkaar karana . ” namrata maneerata, shuddh vichaaron ka rakhana . ” par aaye mehamaan kee seva, shiv kee kaamana . ” yah gun, ek achchhe mahaan purush kee nishaanee hotee hai .

व्यर्थ जीवन

जो लोग. श्री कृष्ण जी को पूजा नहीं करते ।
राधाकृष्ण के प्रेम का गुणगान नहीं करते ।
श्री कृष्ण जी के चरीत को तीनों कथाये नहीं पढ़ते ।
न काही जाकर. पाठ कीर्तन सुनते है ऐसे वकक्तियों का जीवन बेकार है ।
उनका जीना. नजीना बराबर है ।

विधाता का लिखा कोई मिटा नहीं सकता

उल्लू दिन में नहीं देख सकता. इसमें सूर्य का क्या दोष है?
मादीन के पेड़ पर पत्ते नहीं जाते, न फूल खिलते हैं. इसमें भला वसंत का क्या दोष?
नातक के मुह में वर्षा की बुद नहीं जा सकतो इसमें भला बादलमाया दोष है?
आरे भाई जो कुछ विधाता ने हमारे नसीब में लिख दिया है होके रहेगा. इसे तो दुनिया की कोई बदल नहीं सकता।

jo log. shree krshn jee ko pooja nahin karate . ” ” raadhaakrshn ke prem ka gunagaan nahin karate . ” ” shree krshn jee ke chareet ko teenon kathaaye nahin padhate . ” ” na kaahee jaakar. paath keertan sunate hai aise vakaktiyon ka jeevan bekaar hai . unaka jeena. najeena baraabar hai . ulloo din mein nahin dekh sakata. isamen soory ka kya dosh hai? maadeen ke ped par patte nahin jaate, na phool khilate hain. isamen bhala vasant ka kya dosh? ” ” naatak ke muh mein varsha kee bud nahin ja sakato isamen bhala baadalamaaya dosh hai? ” aare bhaee jo kuchh vidhaata ne hamaare naseeb mein likh diya hai . hoke rahega. ise to duniya kee koee badal nahin sakata

अच्छे गुण

 भूखे लोगों को खाना खिलाना, ब्राह्मणों को दान देने वाला प्राणी को उसका फल बहुत  अच्छा मिलता है ।

ईश्वर ऐसे लोगों से बहुत नराज रहता है । 

जो प्राणी दान नहीं देता ।

भजन नही करता ।
साधू का सम्मान नहीं करता ।
तीर्थ यात्रा नहीं करता ।
bhookhe logon ko khaana khilaana, braahmanon ko daan dene vaala praanee naahe use kam hee kare, tab bhee usaka phal bahur achchha milata hai . eeshvar aise logon se bahut ja rahata hai . varg ke dvaar unake lie ho balate hain . jo praanee daan nahin deta . ” ” bhajan nahee naarata . saadhoo ka sammaan nahin karata . ” teerth yaatra nahin karata . van keval dhan ke lon ka hota. ya paar na ikattha kanna rahata hai . ka. pratee gaavit ne apane ko vada samajane lagata hai . un vyakti ko dopak mulana vaahie

तीर्थ यात्रा, पूजा एवं तीर्थ स्नान से पापो का बोझ कम नहीं होता

. तीर्थ यात्रा, पूजा एवं तीर्थ स्नान यह सब केवल मन की शुद्धि के लिए होते हैं । “
तीर्थों पर जाकर स्नान करके, आप केवल अपने पापों का प्रायश्चित करते हैं । ऐसी ही धारणा लेकर तीर्थ यात्रा करते है तो
क्या आप समझते हैं ऐसा करने से मनुष्य के पापों का बोझ कम हो जाता है ।
नहीं ।

जिस तरह शराब का पात्र , जला दिए जाने पर भी शुद्ध नहीं माना जाता, वैसे हो तीर्थ स्थानों पर जाकर वहां पर स्नान करने से कभी पाप नहीं धुलते ।

चाणक्य का जीवन परिचय

teerth yaatra, pooja evan teerth snaan yah sab keval man kee shuddhi ke lie hote hain . ” -teerthon par jaakar snaan karake, aap keval apane paapon ka praayashchit karate hain . aisee hee dhaarana lekar teerth yaatra karate hai to kya aap samajhate hain aisa karane se manushy ke paapon ka bojh kam ho jaata hai . ” nahin . ” jis tarah sharaab ka paatr , jala die jaane par bhee shuddh nahin maana jaata, vaise ho teerth sthaanon par jaakar vahaan par snaan karane se kabhee paap nahin dhulate

भोजन करते समय, प्राणी को सदा मौन रहना चाहिए

भोजन करते समय, प्राणी को सदा मौन रहना चाहिए ।
मौन रहकर भोजन करना, सेहत के लिए काफी लाभ दायक माना जाता है ।

 bhojan karate samay, praanee ko sada maun rahana chaahie . ” maun rahakar bhojan karana, sehat ke lie kaaphee laabh daayak maana jaata hai

चाणक्य नीति सुविचार

.हां यदि ऐसा विश्वास हो तो फिर, नवजात शिशु के लिए मां के स्तनों में दूध कमे आता है?

यही सोनकर में उस महान ईश्वर के आगे मुबह, शाम, सोते – जागते बार – बार प्रणाम करते का यही कहता
हे संसार के स्वामी , तुम ने ही मुझे यह जीवन दिया है । अब तुम ही इसकी रक्षा करोगे ।
यह सब कुछ आपका है, आपके होते हुए मुझे किसी चीज की चिता नहीं ।
बस आप ही मुझ पर कृपा करो, मुझे इस संसार की बुराइयो से दुर रखो ।

haan yadi aisa vishvaas ho to phir, navajaat shishu ke lie maan ke stanon mein doodh kame aata hai? ” yahee sonakar mein us mahaan eeshvar ke aage mubah, shaam, sote – jaagate baar – baar pranaam karate ka yahee kahata ” he sansaar ke svaamee , tum ne hee mujhe yah jeevan diya hai . ab tum hee isakee raksha karoge . ” yah sab kuchh aapaka hai, aapake hote hue mujhe kisee cheej kee chita nahin . bas aap hee mujh par krpa karo, mujhe is sansaar kee buraiyo se dur rakho

 चाणक्य नीति सुविचार

प्राणी को यह चार गुण जन्म से ही उपहार के रूप में मिलतीदान देने की शक्ति मीठे बोलयह सारे गुण मनुष्य को अपने संस्कारों के साथ ही मिलते हैं ।

यह गुण किसी के कहने से, या किसी बोलने से सीखे नहीं जाते । यह धार्मिक प्रवृत्ति तो कुछ ही विशिष्ट मुनियो को जन्म से पूर्व संस्कारों के कारण ही प्राप्त होती है ।

praanee ko yah chaar gun janm se hee upahaar ke roop mein milatee daan dene kee shakti meethe bol yah saare gun manushy ko apane sanskaaron ke saath hee milate hain . yah gun kisee ke kahane se, ya kisee bolane se seekhe nahin jaate . yah dhaarmik pravrtti to kuchh hee vishisht muniyo ko janm se poorv sanskaaron ke kaaran hee praapt hotee hai

अन्य पढ़े

चाणक्य का जीवन परिचय

 चाणक्य नीति के अनमोल वचन

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Alert: Content is protected !!