क्यों आती है छींक

क्यों आती है छींक

क्यों आती है छींक 

जब भी कोई व्यक्ति छींकता है तो उसे सर्दी या एलर्जी होने की बात कही जाती है। लेकिन ऐसा नहीं होता है। आइए जानें हमें छींक क्यों आती है।

छींकना वास्तव में शरीर की एक जटिल प्रतिक्रिया है। छींक तब आती है जब नाक की नसें सूजन, छोटे कणों या ऐसे पदार्थों को देखकर नाक की झिल्ली पर प्रतिक्रिया करती हैं जो एलर्जी पैदा कर सकते हैं। यह प्रतिक्रिया छींक के रूप में आती है।

छींकने के लिए चिकित्सा विज्ञान में ‘छींक’ शब्द का प्रयोग किया जाता है और ऐसा माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति की नाक में छींकने वाले पदार्थ जैसे काली मिर्च, ठंडी हवा या धूल आती है, तो नाक की नसें मस्तिष्क को सूचना भेजती हैं। मस्तिष्क गले, छाती और पेट को एक विशिष्ट तरीके से सिकुड़ने के लिए कहता है ताकि इन तत्वों को जितनी जल्दी हो सके शरीर से बाहर निकाला जा सके। छींक तब आती है जब मस्तिष्क से भेजे गए संदेश का अनुसरण किया जाता है।

Share this
  लंबाई कैसे बढ़ाएं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Alert: Content is protected !!